Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मेडिकल के छात्रों की रद्द नहीं होगी परीक्षाएं, एजुकेशन विभाग ने कहा- बिना परीक्षा के नहीं दे सकते डिग्रियां

रविवार को पंजाब सरकार ने सभी कॉलेजों व विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं रद करने का आदेश दिया था, इस आदेश के एक दिन बाद ही मेडिकल एजुकेशन व रिसर्च विभाग ने इस फैसल से उलट मेडिकल के छात्राओं की परीक्षा रद नहीं करने का कदम उठाया है। विभाग का कहना है कि वह चालू सेशन के सभी कोर्सों की परीक्षाएं लेगा। मेडिकल एजुकेशन व रिसर्च विभाग ने कहा कि बिना परीक्षाओं के डिग्री देने का मेडिकल काउंसिल इजाजत नहीं देती है।

मेडिकल के छात्राओं की रद नहीं होगी परीक्षाएं, एजुकेशन विभाग ने कहा- बिना परीक्षा के नहीं दे सकते डिग्रियां
X
मेडिकल एजुकेशन विभाग

चंडीगढ़। रविवार को पंजाब सरकार ने सभी कॉलेजों व विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं रद करने का आदेश दिया था, इस आदेश के एक दिन बाद ही मेडिकल एजुकेशन व रिसर्च विभाग ने इस फैसल से उलट मेडिकल के छात्राओं की परीक्षा रद नहीं करने का कदम उठाया है। विभाग का कहना है कि वह चालू सेशन के सभी कोर्सों की परीक्षाएं लेगा। मेडिकल एजुकेशन व रिसर्च विभाग ने कहा कि बिना परीक्षाओं के डिग्री देने का मेडिकल काउंसिल इजाजत नहीं देती है।

फरीदकोट के बाबा फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज के वाइस चांसलर डॉ. राज बहादुर ने कहा कि बिना परीक्षा के डिग्रियां नहीं दी जा सकतीं। मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया इसकी इजाजत नहीं देती है। उन्होंने स्पष्ट किया कि परीक्षाएं कोरोना वायरस की महामारी को देखते हुए सुरक्षित माहौल में करवाई जाएंगी। गौरतलब है कि 30 जून तो पंजाब कैबिनेट ने कोविड-19 को देखते हुए 4225 डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ, लैब तकनीशियन, स्टाफ नर्स, फार्मासिस्ट समेत कई पोस्टों को भरने की मंजूरी दी थी। इन पोस्टों को भरने के जिम्मेदारी बाबा फरीद यूनिवर्सिटी को दी गई थी। यूनिवर्सिटी इन पदों पर भर्ती के लिए परीक्षाएं लेगी।

अहम पहलू यह है कि डेंटल की तरह ही मेडिकल एजुकेशन विभाग पर भी दबाव बनाया जा रहा था कि वह परीक्षाएं न ले, जबकि दूसरी तरफ मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य के सभी विश्वविद्यालयों में होने वाली परीक्षाओं को रद करने की घोषणा कर दी थी। इस घोषणा के अगले ही दिन मेडिकल एजुकेशन व रिसर्च विभाग ने स्पष्ट कर दिया है कि मेडिकल एजुकेशन की परीक्षाएं होंगी।

Next Story