Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

1991 में लापता हुए व्यक्ति से संबंधित मामला, कोर्ट ने पंजाब के पूर्व डीजीपी की अग्रिम जमानत याचिका खारिज की

मोहाली की एक अदालत ने मंगलवार को चंडीगढ़ से वर्ष 1991 में लापता हुए एक व्यक्ति से संबंधित मामले में पंजाब पुलिस के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) सुमेध सिंह सैनी की जमानत याचिका खारिज कर दी।

1991 में लापता हुए व्यक्ति से संबंधित मामला, कोर्ट ने पंजाब के पूर्व डीजीपी की अग्रिम जमानत याचिका खारिज की
X
पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी

मोहाली की एक अदालत ने मंगलवार को चंडीगढ़ से वर्ष 1991 में लापता हुए एक व्यक्ति से संबंधित मामले में पंजाब पुलिस के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) सुमेध सिंह सैनी की जमानत याचिका खारिज कर दी। पूर्व पुलिस महानिदेशक ने मामले में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी और अब उनके पास पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में अपील करने का विकल्प है।

विशेष लोक अभियोजक सरतेज सिंह नरूला ने कहा कि अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश रजनीश गर्ग की अदालत ने मंगलवार को सैनी की जमानत याचिका खारिज कर दी। चंडीगढ़ औद्योगिक एवं पर्यटन निगम में कनिष्ठ अभियंता रहे बलवंत सिंह मुल्तानी की गुमशुदगी के सिलसिले में पूर्व डीजीपी के खिलाफ इस साल मई में मामला दर्ज किया गया था। मोहाली के रहने वाले मुल्तानी को सैनी पर हुए आतंकवादी हमले के बाद पुलिस ने पकड़ा था।

प्राथमिकी के मुताबिक, 1991 में घटना के वक्त सैनी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक थे। सैनी तथा छह अन्य के खिलाफ मुल्तानी के भाई पलविंदर की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया था।

अदालत में यह दी थी दलील

नरूला ने कहा कि उन्होंने अदालत में दलील दी थी कि मामले में शामिल अन्य आरोपियों का पता लगाने और कहां एवं कैसे मुल्तानी के शव को ठिकाने लगाया गया? इसका पता लगाने के लिए उन्हें सैनी को हिरासत में लेकर पूछताछ की आवश्यकता है। पंजाब पुलिस ने 28 अगस्त को सैनी के चंडीगढ़ स्थित एक घर और कुछ अन्य स्थानों पर छापे मारी की थी लेकिन वह नहीं मिले।

हालांकि, छापेमारी के कुछ घंटों बाद मोहाली की एक अदालत ने सैनी की अंतरिम जमानत की अवधि को अग्रिम जमानत याचिका पर आने वाले आदेश तक बढ़ा दिया था। अदालत ने 21 अगस्त को पंजाब पुलिस को सैनी के खिलाफ इस मामले में हत्या का आरोप जोड़ने की अनुमति दी थी। गुमशुदगी के इस मामले में सह-आरोपी चंडीगढ़ पुलिस के दो अधिकारी सरकारी गवाह बन गए थे जिसके बाद अदालत ने यह फैसला दिया था।

Next Story