Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीएम अमरिंदर ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से की अपील- मालगाड़ियों के संचालन का मुद्दा सुलझाएं

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने रविवार को भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा को पत्र लिखकर रेलवे द्वारा मालगाड़ियों के संचालन को लगातार निलंबित रखे जाने पर चिंता व्यक्त की और राष्ट्रीय सुरक्षा व सशस्त्र बलों पर इसके खतरनाक परिणाम को लेकर आगाह किया।

सीएम अमरिंदर ने भाजपा अध्यक्ष नड्डा से की अपील- मालगाड़ियों के संचालन का मुद्दा सुलझाएं
X

अमरिंदर नड्डा

पंजाब में नए कृष विधेयकों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। प्रदर्शनकारियों ने रेल सेवाओं को बाधित कर रखा है। किसानों ने रेल की पटरियों पर डेरा जमा रखा है। जिससे मालगाड़ी नहीं चल पा रही हैं, जिससे पंजाब में बिजली संकट गहराता जा रहा है। इसी समस्या के समाधान के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने रविवार को भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा को पत्र लिखकर रेलवे द्वारा मालगाड़ियों के संचालन को लगातार निलंबित रखे जाने पर चिंता व्यक्त की और राष्ट्रीय सुरक्षा व सशस्त्र बलों पर इसके खतरनाक परिणाम को लेकर आगाह किया।

उन्होंने कहा कि यदि चीन और पाकिस्तान दोनों ओर से बढ़ती आक्रामकता के बीच सशस्त्र बलों को महत्वपूर्ण सामान की आपूर्ति नहीं हुई तो देश के लिए स्थिति बेहद खतरनाक हो सकती है।

सिंह ने नड्डा को एक खुले पत्र में कहा कि कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों द्वारा मार्ग रोके जाने की घटना में कमी आने के बावजूद, मालगाड़ी के संचालन को निलंबित रखा गया है और उन्होंने इस समस्या को हल करने के लिए सामूहिक इच्छाशक्ति और राजनयिक कौशल दिखाने का आह्वान किया।

सिंह ने आगाह किया कि सर्दियों की शुरुआत होने के साथ सशस्त्र बलों पर इसका बुरा प्रभाव पड़ने की आशंका है, क्योंकि बर्फबारी के दौरान लद्दाख और घाटी तक जाने वाली सड़कों के अवरुद्ध होने से आपूर्ति और अन्य जरूरी काम रुक जाते हैं। उन्होंने कहा कि ये ऐसे खतरे हैं कि न तो केंद्र सरकार और न ही कोई राजनीतिक दल, जिसमें भाजपा भी शामिल है, अनदेखी कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि हम सभी का कर्तव्य है, हम सभी को एक साथ मिलकर काम करने की जरूरत है, आम लक्ष्य के साथ देश के हित में, विवादास्पद मुद्दे को हल करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने जोर देकर कहा कि यह न तो राजनीतिक टकराव या आरोप-प्रत्यारोप का समय है और न ही इसमें शामिल होने का अवसर है।

Next Story