Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बलविंदर सिंह हत्या मामला : परिवार की मांग- जब तक हत्यारों की गिरफ्तारी नहीं हो जाती तब तक नहीं करेंगे अंतिम संस्कार

शौर्य चक्र से सम्मानित बलविंदर सिंह संधू की शुक्रवार को दो हमलावरों ने उनके घर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले के बाद से इलाके में शोक का माहौल है। वहीं मृतक बलविंदर सिंह संधू के परिवारवालों ने मांग की है कि जब तक अज्ञान हमलावरों को गिरफ्तार नहीं किया जाता तब तक हम अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।

बलविंदर सिंह हत्या मामला : परिवार की मांग- जब तक हत्यारों की गिरफ्तारी नहीं हो जाती तब तक नहीं करेंगे अंतिम संस्कार
X

बलविंदर सिंह हत्या मामला

अमृतसर। शौर्य चक्र से सम्मानित बलविंदर सिंह संधू की शुक्रवार को दो हमलावरों ने उनके घर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले के बाद से इलाके में शोक का माहौल है। वहीं मृतक बलविंदर सिंह संधू के परिवारवालों ने मांग की है कि जब तक अज्ञान हमलावरों को गिरफ्तार नहीं किया जाता तब तक हम अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। पंजाब में आतंकवाद से लड़ने वाले संधू (62) की शुक्रवार को जिले में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। कुछ महीने पहले ही सरकार ने उन्हें दी गई सुरक्षा वापस ले ली थी। संधू जब भीखीविंड में अपने घर से लगे दफ्तर में थे, तब मोटरसाइकिल पर सवार हमलावर उन्हें चार गोलियां मारकर फरार हो गए। संधू की पत्नी जगदीश कौर संधू ने पत्रकारों से कहा कि जब तक हत्यारों को गिरफ्तार नहीं किया जाता, तब तक परिवार उनका अंतिम संस्कार नहीं करेगा। उन्होंने अपने परिवार के लिये सुरक्षा भी मांगी।

पत्नी बोलीं- राज्य और केन्द्र दोनों सरकारें खुफिया नाकामी के लिए हैं जवाबदेह

उधर बलिवंदर सिंह संधू की पत्नी ने सुरक्षा की मांग को लेकर कई सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र ने आतंकवाद से लड़ने के लिये हमें यह सम्मान दिया था। राज्य और केन्द्र दोनों सरकारें खुफिया नाकामी के लिये जवाबदेह हैं, जिसके परिणामस्वरूप आतंकवादियों ने मेरे पति को मार डाला। उन्होंने कहा कि परिवार के सभी सदस्य, मैं, मेरे दिवंगत पति और उनके भाई रंजीत सिंह संधू तथा उनकी पत्नी बलराज कौर संधू शौर्य चक्र से सम्मानित हैं। उन्होंने कहा कि अगर राज्य सरकार परिवार को सुरक्षा मुहैया नहीं करा पा रही है तो केन्द्र को सुरक्षा देनी चाहिये। संधू कई साल तक पंजाब में आतंकवाद के खिलाफ लड़े और जब राज्य में खालिस्तानी आतंकवाद चरम पर था तब उन पर कई आतंकवादी हमले किये गए। संधू के भाई रंजीत ने कहा कि तरन तारन पुलिस की अनुशंसा पर राज्य सरकार ने एक साल पहले उनकी सुरक्षा वापस ले ली थी। उन्होंने कहा कि पूरी परिवार आतंकवादियों की हिट लिस्ट में रहा है।

Next Story