Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अमरिंदर ने सोनिया से पद पर बने रहने के सीडब्ल्यूसी के आग्रह का स्वागत किया

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) द्वारा सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव का स्वागत किया। सीडब्ल्यूसी ने सोनिया गांधी से आग्रह किया है कि वह अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के अधिवेशन तक अंतरिम अध्यक्ष की भूमिका निभाती रहें।

अमरिंदर ने सोनिया से पद पर बने रहने के सीडब्ल्यूसी के आग्रह का स्वागत किया
X
अमरिंदर सिंह

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) द्वारा सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव का स्वागत किया। सीडब्ल्यूसी ने सोनिया गांधी से आग्रह किया है कि वह अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के अधिवेशन तक अंतरिम अध्यक्ष की भूमिका निभाती रहें। सीडब्ल्यूसी ने सोनिया गांधी से पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बने रहने का आग्रह करने के साथ ही संगठनात्मक बदलाव के लिए भी अधिकृत किया। सीडब्ल्यूसी की वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से हुयी बैठक के दौरान सिंह ने राहुल गांधी के इस सुझाव का समर्थन किया कि पार्टी अध्यक्ष के सहयोग के लिए एक व्यवस्था बनायी जानी चाहिए। सिंह ने हालांकि राहुल की इस बात से सहमति जतायी कि सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष बनाए रखना लंबे समय तक नहीं हो सकता।

सिंह ने यहां एक बयान में कहा कि वह पार्टी के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम के इस सुझाव से भी सहमत हैं कि नया अध्यक्ष चुनने के लिए एआईसीसी का अधिवेशन जल्द बुलाया जाना चाहिए। सिंह ने कहा कि वह सीडब्ल्यूसी के इस प्रस्ताव से पूरी तरह से सहमत हैं कि पार्टी के अंदरूनी मामलों पर विचार-विमर्श मीडिया के माध्यम से या सार्वजनिक पटल पर नहीं किया जा सकता है तथा पार्टी से संबंधित मुद्दे पार्टी के मंच पर ही रखे जाएं। उन्होंने कहा कि मुद्दों से निपटने के तरीके होते हैं। सिंह ने कहा कि ऐसा नहीं किया गया। भाजपा हमारे (कांग्रेस) पीछे है और इन सबके बीच में, अपने ही लोग असंतोष जताने लगे। उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी से हमेशा संपर्क किया जा सकता था और असहमति वाला पत्र लिखने की जरूरत नहीं थी। सिंह ने कहा कि देश में ऐसा कोई गांव नहीं है जहां कांग्रेस के नेता नहीं हैं और गांधी परिवार पार्टी को एकजुट करने वाली ताकत है। सोनिया गांधी ने पिछले दो दशकों से इसे एकजुट रखा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में नेहरू-गांधी परिवार की पांच पीढ़ियों में से दो ने देश के लिए अपनी जान दे दी।

Next Story