Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

संसद में कृषि विधेयक पारित होने के बाद पद पर रहना लगा शर्मानाक, इसलिए पद छोड़ा : हरसिमरत कौर

केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने के कुछ दिन बाद बठिंडा की सांसद हरसिमरत कौर बादल ने गुरुवार को कहा कि उन्होंने इसलिए त्यागपत्र दे दिया क्योंकि संसद में कृषि विधेयक लाए जाने के फैसले बाद उन्हें पद पर रहना शर्मनाक लगा।

संसद में कृषि विधेयक पारित होने के बाद पद पर रहना लगा शर्मानाक, इसलिए पद छोड़ा : हरसिमरत कौर
X
हरसिमरत कौर बादल

चंडीगढ़। संसद में केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि विधेयक के पारित होने के बाद से राजनीतिक गलियारों में शौरो गुल का माहौल बना हुआ है। एक तरफ जहां किसान इन विधेयकों का जमकर विरोध कर रहे हैं वहीं नेताओं में भी हलचल बनी हुई है। केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने के कुछ दिन बाद बठिंडा की सांसद हरसिमरत कौर बादल ने गुरुवार को कहा कि उन्होंने इसलिए त्यागपत्र दे दिया क्योंकि संसद में कृषि विधेयक लाए जाने के फैसले बाद उन्हें पद पर रहना शर्मनाक लगा। पूर्व केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री ने दावा किया कि मसौदा कानून को जब उनके मंत्रालय के साथ साझा किया गया तो उन्होंने प्रतिकूल टिप्पणी की थी।

शिरोमणि अकाली दल की नेता ने कहा, मैंने यह भी आग्रह किया था कि किसानों के साथ चर्चा पूरी होने तक विधेयकों को प्रवर समिति के पास भेजा दिया जाए। हालांकि, जब मुझे पता चला कि संसद में काला कानून पेश किया जा रहा है, तो मैंने त्यागपत्र देने का फैसला कर लिया। पार्टी के एक बयान के मुताबिक, 'मुझे अपने पद पर बने रहना शर्मनाक लगा, इसलिए तुरंत इसे छोड़ दिया और किसानों के साथ खड़ा होने का फैसला किया।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि उन्होंने सरकार से कहा था कि विधेयक लाने से पहले किसानों को विश्वास में लेना चाहिए। उन्होंने दावा किया कि मैं पिछले दो-ढाई महीने से लगातार प्रयास कर रही थी। हरसिमरत ने कहा कि जब उनके आग्रह पर ध्यान नहीं दिया गया तो शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने संसद में इन विधेयकों का विरोध करने का फैसला किया।

Next Story