Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एक महीने से बंद पड़ा वोटर कार्ड प्रिंटिंग का काम, तीन हजार कार्ड अटके

एईआरओ नेट पर चलाए जा रहे वोटरकार्ड के साफ्टवेयर के काम में पिछले एक महीने से अपडेशन का काम चल रहा है। जिसकी वजह से नए वोटरकार्ड प्रिंट नहीं हो रहे है। जबकि गोविंदपुरा और हुजूर सर्कल में ही कार्ड प्रिंट हो रहे है,

एक महीने से बंद पड़ा वोटर कार्ड प्रिंटिंग का काम, तीन हजार कार्ड अटके
X

आधार कार्ड की तरह डिजाइन किया नया वोटरकार्ड

गोविंदपुरा और हुजूर के वोटरकार्ड हो रहे प्रिंट

भोपाल। एईआरओ नेट पर चलाए जा रहे वोटरकार्ड के साफ्टवेयर के काम में पिछले एक महीने से अपडेशन का काम चल रहा है। जिसकी वजह से नए वोटरकार्ड प्रिंट नहीं हो रहे है। जबकि गोविंदपुरा और हुजूर सर्कल में ही कार्ड प्रिंट हो रहे है, दरअसल भारत निर्वाचन आयोग ने आधार कार्ड की तर्ज पर नया वोटर कार्ड डिजाइन किया है। जिसमें बार कोड रखा गया है। इसकी मदद से किसी भी वोटर कार्ड वाले व्यक्ति को डेटा आसानी से देखा जा सकेगा। इधर फर्जी वोटर कार्ड भी नहीं बनाए जा सकेंगे। ऐसे में पिछले एक महीने से नए वोटरकार्ड बनाने का काम अटका हुआ है।

राजधानी में प्रति माह तीन से चार हजार नए वोटर कार्ड बनाए जाते है। एक अप्रैल से भारत निर्वाचन आयोग ने नए साफ्टवेयर पर काम करने की हिदायत दी है। जिसके तहत तहसील दफ्तरों में नए वोटरकार्ड का काम किया जा रहा है। जिसमें समस्या यह आ रही है कि नए वोटरकार्ड, संशोधन और अन्य बदलाव का अपडेशन तो हो रहा है, लेकिन कार्ड प्रिंट नहीं हो रहे है। जिसकी वजह से आम लोगों को तहसील दफ्तर और जिला निर्वाचन कार्यालय के चक्कर काटना पड़ रहे है। कलेक्टर अविनाश लवानिया का कहना है कि साफ्टवेयर में काम चल रहा है, जिसकी जानकारी भारत निर्वाचन आयोग के सीईओ दफ्तर को दे दी गई ह। जल्द ही कार्ड प्रिंट करने का काम शुरु कर दिया जाएगा।

और पढ़ें
Next Story