Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जितनी पुरानी भाजपा, उतना ही पुराना यह कमल का फूल, जानिए 'चांदबाड़ दरबार' का रोचक इतिहास

स्थापना दिवस विशेष : मध्यप्रदेश के जिला मुख्यायल सीहोर से लगभग 55 किलोमीटर और राजधानी भोपाल से तकरीबन 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है एक गांव-चांदबाड़ जागीर। भारतीय जनता पार्टी के रोचक इतिहास का एक साक्षी यह चांदबाड़ जागीर भी है। दावा है कि जिस दिन पार्टी को चुनाव चिन्ह के रूप में कमल फूल आवंटित हुआ, उसी दिन से इस गांव के एक मकान की दीवार पर बनाया गया कमल का फूल आज भी वैसा ही है, जैसा उसे बनाया गया था। यानी, भारतीय जनता पार्टी के 41 वर्षों के समृद्ध इतिहास और गौरवशाली यात्रा के बराबर साक्षी यह दीवार, यह मकान, मकान के मालिक, मकान में रहने वाले लोग और यह पूरा गांव हैं। पढ़िए पूरी खबर-

जितनी पुरानी भाजपा, उतना ही पुराना यह कमल का फूल, जानिए चांदबाड़ दरबार का रोचक इतिहास
X

जनसंघ के समर्पित कार्यकर्ता हुआ करते थे ठाकुर रामनाथ सिंह सोलंकी। यह मकान उन्हीं का है। वे जनसंघ के बेहद निष्ठावान कार्यकर्ता थे। कई बार जेल भी गए। बाबरी विध्वंस के समय अयोध्या भी गए थे। ठाकुर रामनाथ सिंह सोलंकी तीन बार निर्विरोध श्यामपुर मंडी के अध्यक्ष रहे। भाजपा से उनका गहरा रिश्ता रहा है। कई मोड़ आए, लेकिन उन्होंने भाजपा का साथ नहीं छोड़ा। एक और विशेष बात यह कि उनके बड़े भाई ठाकुर प्रभूनाथ सिंह सोलंकी लगातार 42 वर्षों तक ग्राम पंचायत चांदवड जागीर के सरपंच रहे, जिसमें मात्र एक बार ही चुनाव हुआ, बाकी पूरे समय निर्विरोध चुने गए। ठाकुर रामनाथ सोलंकी का 2006 में निधन हो गया। सीहोर जिले के श्यामपुर तहसील का यह गांव चांदबाड़ जागीर में ठाकुर रामनाथ सोलंकी का यह निवास अपने राजनैतिक प्रभाव और राजनेताओं के आमदरफ्त के कारण चांदबाड़ दरबार के नाम से आज भी जाना जाता है।

स्व. ठाकुर रामनाथ सिंह सोलंकी के एक सुपुत्र गिरीश कुमार सोलंकी अहमदपुर देवीपुरा के भाजपा मंडल अध्यक्ष हैं। वहीं एक अन्य सुपुत्र विनोद कुमार सोलंकी भी बतौर निष्ठावान कार्यकर्ता भाजपा को ही मजबूत करने में जुटे हुए हैं। विनोद कुमार सोलंकी बताते हैं, वर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जब भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हुआ करते थे, तब पास के ही चरनाल में आयोजित एक सभा में वे बोल रहे थे कि चांदबाड़ दरबार में बना कमल का फूल हमें पार्टी को मजबूत बनाने के लिए प्रेरणा और ऊर्जा देता है।

स्व. ठाकुर रामनाथ सोलंकी

असल में, 1980 में इस कमल के फूल को भाजपा की स्थापना की निशानी के तौर पर स्व. सोलंकी ने बनवाया था। बकौल विनोद कुमार सोलंकी, स्व. सुंदरलाल पटवा से स्व. सोलंकी की खूब नजदीकियां हुआ करती थीं। वे मंदसौर से यहां आकर चुनाव लड़े थे। बैलगाड़ी में दोनों सवार होकर गांवों में चुनाव प्रचार के लिए जाया करते थे। बावजूद, शहरी क्षेत्र से हार मिली, लेकिन चांदबाड़ दरबार का प्रभाव इतना तो था ही कि ग्रामीण क्षेत्र से उन्हें बढ़त मिली। नतीजा, सीहोर विधानसभा क्षेत्र की सीट पर स्व. पटवा ने 122 वोटों से जीत हासिल थी। इस जीत के बाद पटवा मध्यप्रदेश में प्रतिपक्ष के नेता बने थे। भाजपा की स्थापना काल के साक्षी रहे इस चांदबाड़ दरबार से कई राजनैतिक हस्तियों का वास्ता रहा है, जिसमें मदनलाल त्यागी, रमेश सक्सेना, सुदेश राय, सुशील चंद्र वर्मा जैसे कई नाम शुमार हैं। आज भी भारतीय जनता पार्टी का स्थापना दिवस मनाया गया। भाजपा मंडल अध्यक्ष गिरीश कुमार सिंह के नेतृत्व में कार्यकर्ता जुटे और भारतीय जनता पार्टी के गौरवशाली इतिहास को याद किया।

अहमदपुर देवीपुरा मंडल अध्यक्ष गिरीश कुमार सोलंकी के नेतृत्व में चांदबाड़ दरबार में भारतीय जनता पार्टी का स्थापना दिवस मनाया गया। कार्यकर्ता भी मौजूद रहे।



Next Story