Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

तो क्या राजनारायण सिंह पूरणी होंगे कांग्रेस के खंडवा से उम्मीदवार?

निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा पर कांग्रेस को भरोसा नहीं, इसलिए शेरा की पत्नी को तवज्जो देने के मूड में नहीं हैं कमलनाथ। राजनारायण सिंह पूरणी दो बार विधायक रहे हैं और कमलनाथ के खास हैं। दावेदारों में सचिन विरला और झूमा सोलंकी के भी नाम।

तो क्या राजनारायण सिंह पूरणी होंगे कांग्रेस के खंडवा से उम्मीदवार?
X

भोपाल। कांग्रेस नेता अरुण यादव(arun yadav) के इंकार के बाद कांग्रेस(congress) नेतृत्व खंडवा (khandawa) से लोकसभा प्रत्याशी को लेकर मंथन कर रहा है। दारोमदार प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ (kamalnath) पर ही है। खबर है कि वे निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा (surendra singh shera) की पत्नी जयश्री (jayshri singh) सिंह को तवज्जों देने के मूड में नहीं है। इसके दो कारण है। एक, शेरा की पार्टी के प्रति निष्ठा संदिग्ध है और दूसरा, जयश्री को टिकट देने से अरुण यादव प्रचार अभियान में दिलचस्पी नहीं लेंगे। शेरा और अरुण के बीच छत्तीस का आंकड़ा किसी से छिपा नहीं है। ऐसे में कमलनाथ पूर्व विधायक राजनारायण सिंह पूरणी (raj narayan singh purni) के नाम पर गंभीरता से विचार कर रहे हैं। पूरणी कमलनाथ के खास भी हैं। पार्टी सचिन विरला और झूमा सोलंकी के नाम पर भी विचार कर ही है लेकिन राजनारायण सिंह पूरणी का नाम सबसे ऊपर बताया जा रहा है।

अरुण की मदद के बिना जीत संभव नहीं

खंडवा में अरुण का इतना असर है कि उनकी मदद के बिना कांग्रेस का कोई प्रत्याशी जीत के बारे में सोच भी नहीं सकता। वे वहां से तीन बार लोकसभा का चुनाव लड़ चुके हैं और वहां से सांसद भी रहे हैं। क्षेत्र में गांव-गांव अरुण की ही पहचान है। इस उप चुनाव के लिए भी वे मेहनत कर रहे थे।

दो बार विधायक रहे हैं राजनारायण

कई कारणों से कमलनाथ की नजर में राजनारायण सिंह पूरणी का नाम है। वे खंडवा क्षेत्र की निमाड़खेडी विधानसभा सीट से दो विधायक रहे हैं और कमलनाथ के खास हैं। कमलनाथ के प्रयास से ही उन्हें टिकट मिलता रहा है। उप चुनाव में पार्टी ने मांधाता से उनके बेटे उत्तम सिंह को टिकट दिया था लेकिन वे हार गए थे।

-------------

और पढ़ें
Next Story