Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रेप की FIR नहीं लिखने पर एएसपी और एसडीओपी को हटाने के निर्देश, CM ने एसपी से मांगा जवाब

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एफआईआर दर्ज नहीं करने पर पुलिस चौकी प्रभारी के खिलाफ कार्यवाही के दिए निर्देश। पढ़िए पूरी खबर-

रेप की FIR नहीं लिखने पर एएसपी और एसडीओपी को हटाने के निर्देश, CM ने एसपी से मांगा जवाब
X

गाडरवारा। एक तरफ उत्तरप्रदेश के हाथरस की बेटी की चिता ठंडी भी नहीं हुई थी की एक और निर्भया की कहानी सामने आ गई। मामला मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले की तहसील गाडरवारा का है, जहां दरिंदो की हवस का शिकार बनी महिला ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। इस मामले में एफआईआर दर्ज नहीं करने पर पुलिस चौकी प्रभारी के खिलाफ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कार्यवाही के निर्देश दिए हैं। वहीं तत्काल प्रभाव से एडिशनल एसपी एवं एसडीओपी को हटाने के भी निर्देश दिए हैं। इस मामले में एसपी से स्पष्टीकरण मांगा गया है। एसपी फिलहाल छुट्टी पर चल रहे हैं।

यह शर्मनाक वाक्या गाडरवारा के चीचली जनपद क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम रिछाई का है, जहां पीड़िता हल्की बाई उम्र 35 वर्ष ने बीती रात अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इस घटना के बाद परिजनों ने पुलिस की कार्रवाई पर बड़े सवाल खड़े कर दिए।

मृतक महिला के पति जय नारायण चौधरी ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि 28 सितंबर को उसकी पत्नी के साथ बलात्कार की घटना हुई। घटना की शिकायत करने गोटीटोरिया पुलिस चौकी पहुंचे तो वहां पर रिपोर्ट नहीं लिखी गई और वहां से डांटकर भगा दिया गया। दूसरे दिन 29 तारीख को चीचली थाने शिकायत करने पहुंचे तो पुलिस ने दिन भर पीड़ित के परिजनों को ही थाने में बिठा लिया और देर शाम को नजराना लेकर छोड़ने का आरोप मृतक महिला के पति द्वारा लगाए गए हैं।

मृतका के पति ने बताया कि परमू अरविंद एवं अनिल ने 28 तारीख को खेत में चारा काटने गई उसकी पत्नी हल्की बाई के साथ सामूहिक बलात्कार किया, जिसकी शिकायत ग्राम गोटीटोरिया पुलिस चौकी मैं रिपोर्ट करने गए थे। मगर पुलिस ने हमें ही धमका कर भगा दिया। अगर समय पर पुलिस कार्रवाई कर लेती तो मेरी पत्नी की जान बच जाती।

आरोपियों को गिरफ्तार कर 376d और 306 धारा के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया है।

Next Story