Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लाइट गुल हुई तो 24 वोट से जीते उम्मीदवार को बताई सात वोट से हार

परवलिया सड़क पंचायत में मतदान के बाद काउंटिंग हुई, चार पोलिंग बूथों पर गिनती में सरस्वती मीणा को 24 वोट से जीता हुआ बताया गया, इस दौरान आधा घंटे के लिए काउंटिंग स्थल की लाइट गुल हो गई। बाद में पता चला कि पूर्व सरपंच सात वोटों से जीत गया है। कान्हासैया पंचायत में चार बूथों पर पीठासीन अधिकारी की लापरवाही की वजह से तीन सौ वोट रिजेक्ट हुए है, दरअसल लोगों को सरपंच पद के लिए मोहर लगाने का मतपत्र दिया गया था। जिसमें वोटर्स ने तीन खानों में मोहर लगा दी।

लाइट गुल हुई तो 24 वोट से जीते उम्मीदवार को बताई सात वोट से हार
X

पंचायत चुनाव में गड़बड़ी की एक दर्जन शिकायत

छावनी पठार, काछी बरखेड़ा, परवलिया सड़क, बालमपुर में गड़बड़ी का आरोप

भोपाल। परवलिया सड़क पंचायत में मतदान के बाद काउंटिंग हुई, चार पोलिंग बूथों पर गिनती में सरस्वती मीणा को 24 वोट से जीता हुआ बताया गया, इस दौरान आधा घंटे के लिए काउंटिंग स्थल की लाइट गुल हो गई। बाद में पता चला कि पूर्व सरपंच सात वोटों से जीत गया है। कान्हासैया पंचायत में चार बूथों पर पीठासीन अधिकारी की लापरवाही की वजह से तीन सौ वोट रिजेक्ट हुए है, दरअसल लोगों को सरपंच पद के लिए मोहर लगाने का मतपत्र दिया गया था। जिसमें वोटर्स ने तीन खानों में मोहर लगा दी। अब गांव के लोग यहां दोबारा से मतदान कराने की मांग कर रहे है। सोमवार को कलेक्टोरेट में एक दर्जन पंचायतों से सकड़ों लोगों ने शिकायती आवेदन पेश कर पुनर्मतदान की मांग कलेक्टर अविनाश लवानिया से की है। छावनी पठार में फर्जी वोटिंग तो काछी बरखेड़ा में मतपत्र चोरी करने के आरोप लगे हैं। बालमपुर, परवलिया, कान्हा सैया, निपानिया सूखा समेत एक दर्जन ग्राम पंचायतों में सरपंच की काउंटिंग को लेकर आपत्तियां सामने आई हैं। निर्वाचन से जुड़े अफसरों का कहना है कि रिजल्ट घोषित होने के बाद ही जांच की जाएगी।

जिले में 222 ग्राम पंचायतें हैं। इनमें से 3 निर्विरोध हो चुकी है, जबकि एक में चुनाव नहीं हुए। इस कारण 218 ग्राम पंचायतों के लिए 25 जून को पहले ही चरण में वोटिंग हुई। इसके बाद काउंटिंग भी कर दी गई। अधिकृत परिणाम 14 जुलाई को घोषित किए जाएंगे। इसके पहले ही कई ग्राम पंचायतों में गड़बड़ी की शिकायत सामने आ रही है।

- फिर से चुनाव कराने की मांग

फंदा जनपद की छावनी पठार ग्राम पंचायत में सरपंच के कुल 8 उम्मीदवार थे। एक को जीत मिली। बाकी 7 कैंडिडेट सोमवार को कलेक्टर आॅफिस पहुंचे और शिकायत की। कैंडिडेट रहे खेमचंद्र केवट, भावना सोनी, रमेश साहू, अवधेश, नेहा सराठे, राकेश विश्वकर्मा ने फिर से चुनाव कराने की मांग की। बताया कि सरपंच की सीट पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित थी, लेकिन सामान्य वर्ग की सुलेखा राजपूत ने नॉमिनेशन भरा था, जो पूरी तरह से गलत है। वोटिंग के दौरान फर्जी मतदाताओं ने भी वोट डाले। मतदान दल ने भी अंगुली में चिह्न नहीं लगाया।

- पहले 2 वोट से जीत बताई, फिर 3 वोट से हार

निपानिया सूखा के कैंडिडेट तोलाराम ने गड़बड़ी के आरोप लगाए। उन्होंने बताया, मुझे पहले 2 वोट से जिताया था, लेकिन बाद में 3 वोट से दूसरे कैंडिडेट को जीता दिया। सरपंच के साथ ही जनपद और जिला पंचायत सदस्य की वोटिंग में भी गड़बड़ हुई है। इसकी जांच कराई जाना चाहिए।

- काछी बरखेड़ा में मतपत्र चोरी के आरोप

काछी बरखेड़ा पंचायत में सरपंच पद के कैंडिडेट रहे कमलसिंह अहिरवार, नर्बदाप्रसाद अहिरवार, घनश्याम मेहरा ने करीब 86 मतपत्र चोरी होने के आरोप लगाए। उन्होंने पीठासीन अधिकारी पर गड़बड़ी करने की शिकायत की। इस संबंध में रिटर्निंग अधिकारी और एसडीएम आकाश श्रीवास्तव को आवेदन सौंपा गया।

और पढ़ें
Next Story