Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ट्रांसफारमर खराब होने की शिकायत पर मुख्यमंत्री ने जताई नाराजगी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को ऊर्जा विभाग की समीक्षा में अफसरों पर जमकर नाराज हुए। उन्होंने कहा कि ट्रांसफार्मर जलने की लगातार सूचनाएं आ रही है। इसे बदलने में भी कई दिन तक लग रहे हैं। ट्रांसफार्मर जल्द खराब होने या जलने की समस्या पर नाराजगी जताते हुए उन्होंने कहा कि ट्रांसफार्मरों के फेलीयर रेट का अध्ययन कराएं। इतनी जल्दी ट्रांसफार्मर क्यों खराब हो रहे हैं। इसमें लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

ट्रांसफारमर खराब होने की शिकायत पर मुख्यमंत्री ने जताई नाराजगी
X

भोपाल। मुख्यमंत्री चौहान (cm shivraj singh chauhan) ने यह निर्देश मंत्रालय में आयोजित रबी फसल के लिए विद्युत आपूर्ति संबंधी ऊर्जा विभाग की बैठक में दिए। उन्होंने कहा कि बिजली की उपलब्धता हर हाल में सुनिश्चित करें। किसानों को किसी भी कीमत पर 10 घंटे बिजली अनिवार्य रूप से दें। रबी फसल के लिए बिजली की समस्या नहीं आने पाए। यदि इसमें किसी भी तरह की कोताही पाई गई तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें। बैठक में ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय दुबे व अन्य अधिकारी मौजूद थे।

राजस्व बढ़ाने के लिए सभी स्तर पर प्रयास आवश्यक

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बिजली उत्पादन में कोयले (coal) पर निर्भरता कम करने के लिए हर संभव प्रयास करना होगा। इसके साथ ही राजस्व बढ़ाने के लिए सभी स्तर पर प्रयास आवश्यक हैं। यदि हम क्वालिटी बिजली का प्रदाय सुनिश्चित करते हैं, तो बिजली बिलों के नियमित भुगतान के लिए जन-सामान्य की मानसिकता बनाने में मदद मिलेगी। चौहान ने कहा कि यह देखे कि किस जिले से कितना राजस्व आ रहा है। बिजली हानि पर विशेष तौर पर ध्यान दें। अभी ट्रांसमिशन लाॅस की स्थिति चिंताजनक है। इसमें भी कमी लाएं। किंतु आम लोगों को हर हाल में पर्याप्त बिजली मिलनी चाहिए। घरेलू व सिंचाई दोनों के लिए बिजली की उपलब्धता सुनिश्चित करें।

ऊर्जा विभाग की कंपनियों की अमले की कमी

ऊर्जा मंत्री (energi minister) प्रद्युम्न सिंह तोमर ने मुख्यमंत्री के समक्ष विभागीय अमले की कमी का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि विभागीय अमले में वृद्धि की जरूरत है। बैठक में रबी सीजन में विद्युत प्रदाय सुनिश्चित करने, फ्लेक्सी प्लान, ट्रांसफार्मरों और कोयले की उपलब्धता के संबंध में मुख्यमंत्री को अवगत कराया। रबी सीजन में अधिकतम विद्युत मांग को दोपहर में शिफ्ट करने की संभावनाओं पर भी चर्चा हुई, क्योंकि दोपहर में ही सौर विद्युत ऊर्जा की उपलब्धता अधिकतम रहती है। उन्होंने प्रमुख सचिव से कहा कि वे इसकी नियमित समीक्षा कर अवगत कराएं। यह देखेे कि प्रदेश में कहां से कौन की समस्या आ रही है। उसका तत्काल निदान कराएं। इसमें लापरवाही नहीं होनी चाहिए।


------


Next Story