Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

थाना प्रभारी और चौकी इंचार्ज समेत 7 आरोपी गिरफ्तार, गैंगरेप पीड़िता की ख़ुदकुशी के बाद एक्शन में सरकार

नरसिंहपुर एडिशनल एसपी राजेश तिवारी और गाडरवारा एसडीओपी सीताराम यादव को तत्काल पद मुक्त करने के निर्देश। पढ़िए पूरी खबर-

थाना प्रभारी और चौकी इंचार्ज समेत 7 आरोपी गिरफ्तार, गैंगरेप पीड़िता की ख़ुदकुशी के बाद एक्शन में सरकार
X

नरसिंहपुर। मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर के चीचली थाना अंतर्गत ग्राम रीछई में हुए सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता की आत्महत्या के मामले के चलते नरसिंहपुर एडिशनल एसपी राजेश तिवारी और गाडरवारा एसडीओपी सीताराम यादव को तत्काल पद मुक्त करने के निर्देश दिए गये हैं। वहीं चौकी प्रभारी एम एल कुडापे और चीचली थाना प्रभारी अनिल सिंह पर महिला संबंधी अपराधों में लापरवाही का मामला दर्ज किया गया है। मामले में लापरवाही बरते जाने पर दो पुलिसकर्मियों समेत 7 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

रिपोर्ट न लिखने और लापरवाही बरतने के कारण चिचली थाना प्रभारी अनिल सिंह और गोटिटोरिया चौकी प्रभारी मिश्रीलाल कुड़ापे को भी गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा, दुष्कर्म के तीन मुख्य आरोपी परसू, अरविंद, अनिल के साथ ही पीड़िता को आत्महत्या के लिए प्रेरित करने वाले दो अन्य को भी गिरफ्तार किया गया है।

इससे पहले थाना प्रभारी और चौकी इंचार्ज को शुक्रवार को रात ही निलंबित कर दिया गया था। मामले में सीएम शिवराज सिंह चौहान के एक्शन में आने के बाद ये कार्रवाई की गईं। महिला के पति का आरोप है कि उसकी पत्नी के साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ था। इसकी रिपोर्ट लिखाने के लिए 3 दिन से पुलिस के चक्कर लगा रहे थे। आरोपितों को गिरफ्तार करने की जगह उन्हें ही लॉकअप में डाल दिया गया था।

पति ने एसडीओपी गाडरवारा सीताराम यादव को बताया कि उसकी पत्नी 28 सितंबर को गांव स्थित खेत में चारा काटने गई थी। जहां पर परसू, अरविंद और अनिल नाम के तीन लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। घर आने पर पत्नी ने घटना के बारे में बताया। सभी रात को ही गोटिटोरिया पुलिस चौकी पहुंचे, जहां उनसे आवेदन लेकर सुबह मेडिकल कराने की बात कही गई। आरोप है कि जब दूसरे दिन 29 सितंबर को वे चौकी पहुंचे तो उनकी रिपोर्ट नहीं लिखी गई।

30 सितंबर को वह चीचली थाना पहुंचे, जहां उनकी फरियाद सुनने के बजाय पुलिसकर्मियों ने महिला के पति, जेठ को ही लॉकअप में बंद कर दिया। पीड़िता के साथ गाली-गलौज की गई। आरोप है कि महिला के परिजन को छोड़ने के एवज में पुलिस ने उनसे रुपए लिए। इससे व्यथित महिला ने आत्महत्या कर ली। दुष्कर्म के तीन मुख्य आरोपी परसू, अरविंद, अनिल के साथ ही पीड़िता को आत्महत्या के लिए प्रेरित करने वाले दो अन्य को भी गिरफ्तार किया गया है।

Next Story