Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

झारखंड: शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के स्वास्थ्य में नहीं हो रहा सुधार, अब भी वेंटिलेटर सर्पोट पर

झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के हालात में कोई सुधार होने के बजाय और भी ज्यादा बिगड़ता ही जा रहा है। उन्हें अभी भी वेंटिलेटर सर्पोट पर रखा गया है।

झारखंड: शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के स्वास्थ्य में नहीं हो रहा सुधार, अब भी वेंटिलेटर सर्पोट पर
X

शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो

झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के हालात में कोई सुधार होने के बजाय और भी ज्यादा बिगड़ता ही जा रहा है। उन्हें अब भी वेंटिलेटर सर्पोट पर रखा गया है। मेडिका अस्पताल में उनका इलाज कर रहे रिम्स के क्रिटिकल केयर के हेड डॉ. प्रदीप भट्टाचार्य ने बताया कि शिक्षा मंत्री की सेहत में कोई सुधार नहीं हो रहा है।

इसके बाद रविवार को एक बार फिर उनके हालात के बारे में जानने के लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन मेडिका पहुंचे। जहां उनकी हालात के बारे में जानकारी ली। इससे पहले शनिवार को भी मेडिका अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. विजय मिश्रा से मुलाकात की थी।

मेडिका के डॉक्टरों के मुताबिक, जगरनाथ महतो में हुए फेफड़े के संक्रमण में कोई सुधार नहीं हो रहा है। जिसके चलते उन्हें सांस लेने में भी काफी तकलीफ हो रही है। शनिवार को मेदांता गुड़गांव के चिकित्सकों की सलाह पर उनकी ऑक्सीजन लेवल बढ़ा दी गई थी।

जिसे दोबारा 100 फीसद हाई फ्लो ऑक्सीजन सपोर्ट पर कर दिया गया है। साथ ही उन्हें अभी भी वेंटिलेटर सर्पोट पर रखा गया है।

चेन्नई अपोलो से बुलाया गया डॉक्टर

बताया जा रहा है कि उनके बिगड़ते हालात को देखते हुए मेडिका के अलावा अन्य अस्पताल के डॉक्टरों से राय लिया जा रहा है। रविवार को अपोलो चेन्नई से डॉक्टर मेडिका आए। जहां उनके हालात को लेकर बातचीत चल रही है।

चेन्नई से आए डॉक्टर का कहना है कि हालात को देखते हुए अगर बेहतर इलाज के लिए बाहर ले जाने की जरूरत पड़ेगी तो वेंटिलेटर सपोर्ट पर ही उन्हें एयर एंबुलेंस से बाहर भेजा जाएगा। वहीं अगर मेडिका में ही इलाज संभव होगा तो चिकित्सकों को दिशा निर्देश देने के बाद वे लौट जाऐंगे।

फिलहाल उन्हें हाई फ्लो ऑक्सीजन और वेंटिलेटर सर्पोट दिया जा रहा है। साथ ही मेडिका में मौजूद रिम्स के क्रिटिकल केयर के हेड डॉ. प्रदीप भट्टाचार्य के साथ चेन्नई अपोलो से आए डॉक्टर के साथ बातचीत कर बेहतर इलाज देने की कोशिश की जा रही है।

Priyanka Kumari

Priyanka Kumari

Jr. Sub Editor


Next Story