Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मप्र में कहीं भी दुग्ध पार्लर बंद हैं तो वह जरूरतमंदों को होगा आवंटित

मप्र में यदि कहीं भी दुग्ध पार्लर बंद पड़े हैं, तो उन्हें जरूरतमंद हितग्राहियों को आवंटित कर शुरू किया जाएगा। इससे ऐसे लोगों को रोजगार से जोड़ा जा सकेगा, जिनके पास कोई रोजगार नहीं है। इतना ही नहीं जिन जिलों में शीत केन्द्र नहीं हैं, वहां भी शीत केंद्र का निर्माण कार्य अतिशीघ्र पूरा कर नई मशीने लगाई जाएगी। इसके साथ ही दूध एवं दुग्ध उत्पाद का संग्रहण एवं विक्रय बढ़ाने के प्रयास किए जाएंगे।

मप्र में कहीं भी दुग्ध पार्लर बंद हैं तो वह जरूरतमंदों को होगा आवंटित
X


हरिभूमि न्यूज. भोपाल

अपर मुख्य सचिव पशुपालन एवं डेयरी विकास जेएन कंसोटिया ने कहा कि मप्र में यदि कहीं भी दुग्ध पार्लर बंद पड़े हैं, तो उन्हें जरूरतमंद हितग्राहियों को आवंटित कर शुरू किया जाएगा। इससे ऐसे लोगों को रोजगार से जोड़ा जा सकेगा, जिनके पास कोई रोजगार नहीं है। वे पिछले दिनों झाबुआ में दुग्ध शीत केन्द्र का निरीक्षण करने पहुंचे थे। इसी दौरान उन्होंने यह बात कही। उन्होंने पॉलीक्लीनिक का भी निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि पशुपालकों को स्वस्थ पशुपालन के लिए प्रेरित करें। उन्होंने वर्ष 2021-22 में महज 5 एक्स-रे होने पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि चिकित्सा मशीनों का भरपूर उपयोग किया जाए। एक्स-रे और सोनोग्रॉफी मशीनों का भरपूर उपयोग करने से समस्याओं का हल किया जा सकेगा। गौरतलब है कि मप्र में काफी संख्या में दुग्ध पार्लर बंद पड़े हुए हैं। ऐसे में बंद पड़े उन दुग्ध पार्लरों को जरूरतमंदों को आवंटित करने से बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार से जोड़ा जाएगा।

मवेशियों की टेगिंग का काम जल्दी पूरा करें -

कंसोटिया ने पालतू पशुओं की टेगिंग और बधियाकरण अभियान में 15 से 30 सितंबर तक किए जाने वाले ग्रामवार निकृष्ट सांडो की जानकारी ली। उन्होंने कृत्रिम गर्भाधान कार्य को बेहतर ढंग से करने के लिये एआई प्रशिक्षण करवाने को कहा। कंसोटिया ने विभिन्न विभागीय गतिविधियों के साथ हितग्राहियों के घर पहुंचकर गौ, भैंस, बकरी और मुर्गी पालन आदि की जानकारी ली। उन्होंने हितग्राहियों की समस्याओं को सुनकर उनके त्वरित समाधान के भी निर्देश दिए।


------


Next Story