Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चमोली में लापता हुए प्रोजेक्ट मैनेजर राकेश का 9 दिन बाद घर पहुंचा शव, पत्नी हुई बेहोश

उत्तराखंड के चमोली (Chamoli Glacier) जिले में ग्लेशियर टुटने के बाद आई जल प्रलय में हिमाचल प्रदेश (Himachal pradesh) के 10 लोग लापता हुए थे। लापता हुए लोगों को 9 दिन बीत चुके हैं। आपको बता दें की सर्च आपरेशन अभी जारी है। 9 दिन बितने के बाद कांगड़ा जिले के राकेश ऋषिगंगा प्रोजेक्ट (Rishiganga Project) में प्रोजेक्ट मैनेजर का शव बरामद हुआ है।

चमोली में लापता हुए प्रोजेक्ट मैनेजर राकेश का 9 दिन बाद घर पहुंचा शव, पत्नी हुई बेहोश
X

चमोली में लापता हुए प्रोजेक्ट मैनेजर राकेश 

उत्तराखंड के चमोली (Chamoli Glacier) जिले में ग्लेशियर टुटने के बाद आई जल प्रलय में हिमाचल प्रदेश (Himachal pradesh) के 10 लोग लापता हुए थे। लापता हुए लोगों को 9 दिन बीत चुके हैं। आपको बता दें की सर्च आपरेशन अभी जारी है। 9 दिन बितने के बाद कांगड़ा जिले के राकेश ऋषिगंगा प्रोजेक्ट (Rishiganga Project) में प्रोजेक्ट मैनेजर का शव बरामद हुआ है।

कल सोमवार देर शाम उनका पार्थिव शरीर उत्तराखंड (Uttrakhand) के चमोली से उनके गांव (Village) पहुंचा। इस दौरान आंगन में शव को देखकर उनकी पत्नी अनीता बेहोश हो गई। बाद में राकेश के छोटे भाई संतोष कपूर ने राकेश को मुखाग्नि दी। आपको बता दें कि शव से मिले आधार कार्ड से राकेश की पहचान हुई थी। परिवार वालों का रो-रोकर बुराहाल हैं। वहीं प्रदेश से 9 लोग अभी और लापता हैं। उनका अभी तक कोई सुराग नहीं लगा है।

आपको बता दें कि राकेश की माता और पत्नी अनीता का रो-रोकर बुरा हाल था। पत्नी ने दुल्हन की तरह सजकर पति को अंतिम विदाई दी। अंतिम यात्रा में पालमपुर के विधायक आशीष बुटेल, वूल फेडरेशन के चेयरमैन त्रिलोक कपूर, प्रशासन की ओर से तहसीलदार वेद प्रकाश अग्निहोत्री, पंचायत प्रधान ऊमा देवी, समेत अन्य कई लोगों ने श्रद्धांजलि अर्पित की।

राकेश के पिता का पहले ही हो चुका है स्वर्गवास

राकेश के पिता का देहांत हो चुका है और उनके पांच भाई हैं। परिवार में पत्नी व दो साल का बच्चा है। परिवार राकेश की सुरक्षा को लेकर चिंतित था। बंदला-नछीर में रहने वाले सगे-संबंधी उसकी कुशलता के लिए प्रार्थना कर रहे थे। वहीं, अब परिजनों की बेटे को जिंदा देखने और कुदरत का करिश्मा होने की आस भी टूट गई।

Next Story