Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पार्टी करने गए दो छात्र ब्यास नदी में डूबे, किनारे पर रखे मिले दोनों के कपड़े, सर्च ऑपरेशन जारी

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले (Kangra District) में ब्यास नदी (Beas River) में डूबने से दो छात्रों की मौत की खबर सामने आ रही है। दोनों छात्रों के कपड़े नदी के किनारे रखे हुए मिले हैं। जानकारी के मुताबिक यह हादसा जिले के देहरा के फेरा गांव के पास हुआ। बताया जा रहा है कि अंशुल और आयुष अपने पांच स्कूली दोस्तों के साथ ब्यास नदी के किनारे चट्टानों पर पार्टी करने और सेल्फी लेने आए थे।

पार्टी करने गए दो छात्र ब्यास नदी में डूबे, किनारे पर रखे मिले दोनों के कपड़े, सर्च ऑपरेशन शुरू
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले (Kangra District) में ब्यास नदी (Beas River) में डूबने से दो छात्रों की मौत की खबर सामने आ रही है। दोनों छात्रों के कपड़े नदी के किनारे रखे हुए मिले हैं। जानकारी के मुताबिक यह हादसा जिले के देहरा के फेरा गांव के पास हुआ। बताया जा रहा है कि अंशुल और आयुष अपने पांच स्कूली दोस्तों के साथ ब्यास नदी के किनारे चट्टानों पर पार्टी करने और सेल्फी लेने आए थे। जबकि घर में आधार कार्ड अपडेट करने का बहाना लगाया था। एनडीआरएफ को अब तक छात्रों डेड बॉडी नहीं मिली है। हालांकि घटनास्थल पर कपड़े, कोल्डड्रिंक की बोतल व गिलास मिले हैं। इसके अलावा स्कूटी भी सड़क किनारे खड़ी मिली है। यह भी बताया जा रहा है कि अन्य दोस्त भी अपनी-अपनी बाइक लेकर आए थे। अंशुल और आयुष गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल गरली में ग्यारहवीं कक्षा में साथ पढ़ते थे। फिलहाल नूरपुर से आई एनडीआरएफ की 16 सदस्यीय टीम, ज्वालामुखी के डीएसपी चन्द्रपाल सिंह व देहरा पुलिस सर्च ऑपरेशन में जुटी है। वहीं, पता चला है कि आए दिन कई छात्र छात्राओं को यहां सेल्फी लेते देखा गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अंशुल कुमार पुत्र वीरेंद्र कुमार गांव कठियाडा गरली जिला कांगड़ा का रहने वाला था, जो कि अपने माता और पिता का इकलौता बेटा था। जबकि आयुष पुत्र राजपाल गांव व डाकघर गरली में अपने मामा के घर रहता था। वैसे आयुष का घर ऊना जिला के अम्ब के गांव पोलिया परोतां में हैं। दोनों की उम्र भी 16 वर्ष है। साथ ही पता चला है कि दोनों शनिवार को सुबह स्कूटी पर सवार होकर परागपुर की तरफ गए थे, लेकिन शाम को घर नहीं पहुंचे। इन दोनों की तलाश स्थानीय लोगों द्वारा अपने तौर पर की गई। काफी मशक्कत के बाद स्कूटी देहरा के लोहर सुनहेत से चंबा पत्तन रोड़ पर फेरा गांव में ब्यास नदी के किनारे मिली। इसके बाद परिजनों को ब्यास नदी के किनारे चट्टानों के बीच रेत पर इन दोनों के कपड़े और मोबाइल मिले थे।

अंशुल के दादा केवल कृष्ण ने बताया कि सुबह घर से 10 बजे आधार कार्ड अपडेट करवाने निकले थे, लेकिन जब दो बजे तक घर नहीं लौटे तो सभी ने उसको ढूंढना शुरू किया। फिर उसकी स्कूटी फेरा गांव में ब्यास नदी के किनारे सड़क पर मिली। इसके बाद ब्यास नदी के किनारे पर जाकर देखा तो दो बच्चों के कपड़े, कोल्ड ड्रिंक की बोतल व गिलास मिले। उसके बाद इसकी सूचना देहरा पुलिस को दी।

Next Story