Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोविड कर्फ्यू में नौकरी न मिलने से परेशान टीचर ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखी ये बात

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में कोरोना महामारी के कारण बहुत लोगों के रोजगार चले गए हैं। वहीं कुछ लोगों को नौकरी (job) न मिलने से लोग आत्महत्याएं (Suicide) भी रहे हैं। मानसिक तनाव, नौकरी जाने और नौकरी ना मिलने से लोग आत्महत्या (Suicide) कर रहे हैं।

कोविड कर्फ्यू में नौकरी न मिलने से परेशान टीचर ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखी ये बात
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में कोरोना महामारी के कारण बहुत लोगों के रोजगार चले गए हैं। वहीं कुछ लोगों को नौकरी (job) न मिलने से लोग आत्महत्याएं (Suicide) भी रहे हैं। मानसिक तनाव, नौकरी जाने और नौकरी ना मिलने से लोग आत्महत्या (Suicide) कर रहे हैं। आत्महत्या का नया मामला हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा (Kangra) जिले के नूरपुर थाना क्षेत्र का है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कांगड़ा के नूरपुर से जाच्छ पंचायत में मंगलवार रात बेरोजगारी से परेशान एक व्यक्ति ने अपने घर में लोहे के जंगले में रस्सी डालकर आत्महत्या कर ली। मृतक की पहचान कुलभूषण (44) पुत्र खेमराज निवासी जाच्छ के रूप में हुई हैं। कुलभूषण ने आत्महत्या से पहले सुसाइड नोट में लिखा कि वह आत्महत्या कर रहा है। उसके मरने के बाद परिवार के किसी भी सदस्य को परेशान न किया जाए। सुसाइड नोट में लिखा है कि कोविड कर्फ्यू में नौकरी न मिलने से मानसिक तौर पर परेशान था और कोरोना कर्फ्यू से पहले पंजाब में एडहॉक पर किसी स्कूल में टीचर था, लेकिन नौकरी जाने से काफी समय खाली रहने के बाद मानसिक तनाव में रहने लगा।

कुलभूषण कुछ समय पहले कोविड संक्रमण से ठीक होकर घर आया था। कोविड प्रोटोकाल के अनुसार अलग ही रह रहा था। सुबह कमरे में न दिखने पर परिवार वालों ने उसे ढूंढा तो जंगले से लटका पाया, पुलिस ने सुसाइड नोट को अपने कब्जे में ले लिया है। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। मृतक अपने पीछे मां, पत्नी और तीन बेटियाँ छोड़ गया है। सबसे बड़ी बेटी 12 साल की है। पुलिस को यह सूचना मृतक के पिता खेमराज ने दी। पुलिस ने मौके पर जाकर मामला दर्ज किया।

Next Story