Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लापरवाही: स्कूटी चालक ने नहीं लगाई सीट बेल्ट तो पुलिस ने काटा चालान

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के ऊना जिले (Una District) से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां एक पुलिसकर्मी (Polie Men) ने स्कूटी का चालान इसलिए काट दिया क्योंकि स्कूटी चालक ने सीट बेल्ट (Seat belt) नहीं पहनी थी।

लापरवाही: स्कूटी चालक ने नहीं लगाई थी सीट बेल्ट इसलिए ऊना पुलिस ने काटा चालान
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के ऊना जिले (Una District) से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां एक पुलिसकर्मी (Polie Men) ने स्कूटी का चालान इसलिए काट दिया क्योंकि स्कूटी चालक ने सीट बेल्ट (Seat belt) नहीं पहनी थी। आपको बता दें कि पुलिसकर्मियों (Policemen) की जिम्मेवारी है कि वे इस लॉकडाउन का पालन सही तरीके से करवाएं। पर पुलिसकर्मी कई बार ऐसी असावधानियां बरत रहे हैं कि उनकी निष्ठा और ट्रेनिंग पर संदेह होने लगता है। पुलिस क्रर्मी ने चालान के पेपर में उसने बेल्ट न लगाने को चालान का कारण बताया है।

चालान में बताए गए हैं ये चार कारण

दरअसल, गगरेट पुलिस ने काटे गए चालान में 4 ऑफेंस दिखाए हैं। पहला ऑफेंस है चालक का बिना हेलमेट होना। दूसरे ऑफेंस के तहत बताया गया है कि स्कूटी चालक ने सीट बेल्ट नहीं लगा रखी थी। काटे गए चालान के मुताबिक तीसरा ऑफेंस खतरनाक तरीके से गाड़ी चलाना है और चौथा पुलिसकर्मी के रोकने पर भी चालक का स्कूटी न रोकना।

पुलिस की कार्यशैली पर उठे सवाल

आपको बता दें कि इस लॉकडाउन के दौरान हर नागरिक को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए और पुलिसवालों को भी चाहिए कि वे लॉकडाउन का पालन सख्ती से करवाएं। लेकिन जिस स्कूटी चालक का चालान काटा गया है, वह मेडिकल पेशे से जुड़ा है और सरकार की ओर से इस लॉकडाउन में इस पेशे को छूट दी गई है। सबसे बड़ा सवाल तो यह है कि आखिर कोई भी चालक स्कूटी पर सीट बेल्ट कैसे लगाए? जाहिर है इस तरह के चालान से पुलिस की मंशा और कार्यशैली दोनों पर सवाल उठते हैं।

पुलिस वालों ने दी ये सफाई

हालांकि पुलिस का दावा है कि ये मोबाइल ऐप से काटा गया चालान है। चूक से सीट बेल्ट का ऑप्शन क्लिक हो गया। उधर, डीएसपी अंब सृष्टि पांडे ने बताया कि आजकल चालान मोबाइल एप से होते हैं, तो जब ऑप्शन सेलेक्ट किया तो साथ में सीट बेल्ट का ऑप्शन भी क्लिक हो गया होगा, लेकिन कोर्ट में इसे सही करके ही भेजा गया है।

Next Story