Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शिमला-मटौर नेशनल हाईवे पर जान जोखिम में डालकर सफर कर रहे हैं लोग, सरकार ने एनएचएआई को लिखा पत्र

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के शिमला-मटौर नेशनल हाईवे (Shimla-Mataur National Highway) पर सफर करना जोखिम भरा साबित हो रहा है। एनएच की कई जगह टारिंग उखड़ गई है।

शिमला-मटौर नेशनल हाईवे पर जान जोखिम में डालकर सफर कर रहे हैं लोग, सरकार ने एनएचएआई को लिखा पत्र
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के शिमला-मटौर नेशनल हाईवे (Shimla-Mataur National Highway) पर सफर करना जोखिम भरा साबित हो रहा है। एनएच की कई जगह टारिंग उखड़ गई है। सड़क पर गड्ढे पडऩे से वाहन चालकों को भारी परेशान का सामना करना पड़ रहा है। दो पहिया वाहन चालकों को तो हाइवे पर वाहन चलाना टेड़ी खीर हो गई है। प्रदेश सरकार ने नेशनल हाईवे की दशा सुधारने के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचआई) को पत्र लिखकर इसे सुधारने की मांग की है।

सरकार ने नेशनल हाईवे के अधीक्षक अभियंता को भी एनएचईआई से लगातार संपर्क करने को कहा है। लोक निर्माण विभाग के प्रधान सचिव सुभाशीष पांडा ने भी इस नेशनल हाईवे का जायजा लिया है। हाईवे पर दिन-रात छोटे बड़े वाहनों की आवाजाही रहती है। सड़क के किनारे बारिश के पानी के लिए बनाई गई नालियां भी मिट्टी से भरी हैं। कई जगह क्रैश बैरियर टूटे हैं। बरसात के चलते सड़क के किनार गिरा मलबा तक नहीं हटाया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एनएच घंडल के पास क्षतिग्रस्त है। लोक निर्माण विभाग की ओर से इस एनएच पर पुल का निर्माण किया जा रहा है। लोक निर्माण का दावा है कि सप्ताह के भीतर इस एनएच से वाहनों की आवाजाही शुरू कर दी जाएगी। यह कार्य वाहन चालकों और स्थानीय लोगों के विरोध के बाद हो रहा है। नेशनल हाईवे की मरम्मत के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया को पत्र लिखा गया है। नेशनल हाईवे के अधीक्षण अभियंता को लगातार एनएचईआई से संपर्क करने को कहा गया है। जल्द ही सड़क की स्थति में सुधार किया जाएगा।

Next Story