Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऑनलाइन स्टडी पर फीडबैक देंगे अभिभावक, कोरोना के कारण डेढ़ साल से हो रही है ऑनलाइन पढ़ाई

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में अब लाखों अभिभावक ऑनलाइन स्टडी (Online study) की फीडबैक सरकार व शिक्षा विभाग को दे पाएंगे। शिक्षा विभाग (Education Department) ने अभिभावकों को खुला मंच सुझाव के लिए दिया है।

ऑनलाइन स्टडी पर फीडबैक देंगे अभिभावक, कोरोना के कारण डेढ़ साल से हो रही है ऑनलाइन पढ़ाई
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में अब लाखों अभिभावक ऑनलाइन स्टडी (Online study) की फीडबैक सरकार व शिक्षा विभाग को दे पाएंगे। शिक्षा विभाग (Education Department) ने अभिभावकों को खुला मंच सुझाव के लिए दिया है। डेढ़ साल से ऑनलाइन पढ़ाई (Online Study) में छात्रों को कितना समझ आ रहा है, वहीं उनकी मानसिक स्थिति पर तो इसका असर नहीं पड़ रहा है, यह भी अभिभावक साझा कर सकेंगे। ऑनलाइन स्टडी में क्या बदलाव होने चाहिएं, इस पर भी अभिभावक ई-पीटीएम (E-PTM) के माध्यम से सुझाव दे सकेंगे।

विभागीय जानकारी के अनुसार शिक्षा विभाग सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों से ऑनलाइन पढ़ाई का फीडबैक लेगा। शिक्षा मंत्री (Minister of Education) तीन जून को ई-पीटीएम को लांच करेंगे और बताया जा रहा है कि इसी दिन वह अभिभावकों से भी जुड़ेंगे। समग्र शिक्षा विभाग ने इसका प्लान तैयार किया है और इसके लिए सचिव शिक्षा को डेट फाइनल के लिए फाइल भी भेज दी गई है। इसमें अभिभावकों से पूछा जाएगा कि जो पढ़ाया जा रहा है, क्या वह बच्चों को समझ आ रहा है या नहीं।

किसी बच्चें में कोई खामी तो नहीं है। ऑनलाइन पढ़ाई में कैसे सुधार लाया जा सकता है। इन सभी बिंदुओं पर अभिभावकों से उनकी राय लेंगे। गौर रहे कि कोरोना वायरस को पिछले साल से लेकर स्कूल बंद हैं। बच्चों को ऑनलाइन माध्यम से ही पढ़ाया जा रहा है। बच्चों को ई-लर्निंग के दौरान कोई दिक्कत तो नहीं है। गणित, विज्ञान जैसे विषयों को समझने में उसे कोई दिक्कत तो पेश नहीं आ रही है। इस बारे में उनका फीडबैक लिया जाएगा। जल्द ही विभाग ई पीटीएम की डेट तय कर देगा। शिक्षक बच्चों व अभिभावकों से फोन पर बात करेंगे। उनसे ऑनलाइन पढ़ाई के बारे में सवाल पूछा जाएगा। बच्चों के होम वर्क में के बारे में भी जानकारी ली जाएगी।

पिछले सरल भी यह ई-पीटीएम करवाई गई थी। उल्लेखनीय है कि पिछले लंबे समय से छात्र ऑनलाइन स्टडी कर रहे हैं। नर्सरी से लेकर जमा दो तक के छात्र हर विषय ऑनलाइन माध्यम से ही पढ़ रहे हैं। अहम यह है कि लंबे समय से अभिभावक मांग कर रहे थे कि ऑनलाइन स्टडी के माध्यम में बदलाव किया जाए, लेकिन अभी तक हर घर पाठशाला के माध्यम से ही छात्रों को पढ़ाया जा रहा है। बावजूद इसके लाखों अभिभावकों के सुझाव के बाद ऑनलाइन स्टडी के पैटर्न को बदलने का फैसला शिक्षा विभाग ने लिया है।

ई-पीटीएम के माध्यम से नर्सरी से 12वीं तक के छात्रों के अभिभावक अपनी फीडबैक दे सकेंगे। लाखों छात्रों की सुविधा के लिए ई-पीटीएम करवाई जाएगी। इसमें फीडबैक के आधार पर आगे की कार्य योजना तैयार की जाएगी और जरूरत पड़ी, तो ई-लर्निंग को और सरल व रोचक बनाया जाएगा।

Next Story