Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Cyclone Tauktae: प्रदेश में तौकते तूफान का असर, कई इलाकों में भारी बारिश, 23 तक खराब रहेगा मौसम

Cyclone Tauktae: हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में साइक्लोन ‘तौकते’ (Cyclone Tauktae) का खासा असर नहीं देखने को मिला है। प्रदेश में बुधवार को कई इलाकों में झमाझम बारिश जरूर हुई है।

Cyclone Tauktae: प्रदेश में तौकाते तूफान का असर, कई इलाकों में भारी बारिश, 23 तक खराब रहेगा मौसम
X

प्रदेश में तौकाते तूफान का असर।

Mausam Ki Jankari: हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में साइक्लोन 'तौकते' (Cyclone Tauktae) का खासा असर नहीं देखने को मिला है। प्रदेश में बुधवार को कई इलाकों में झमाझम बारिश जरूर हुई है। लेकिन आंधी और तूफान (Cyclone) ना आने से लोगों ने राहत की सांस ली। प्रदेश में 23 मई तक मौसम (Weather) खराब रहने का पूर्वानुमान है। गुरुवार को प्रदेश के मैदानी और मध्यम ऊंचाई वाले क्षेत्रों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है। इस दौरान कांगड़ा (Kangra), कुल्लू, मंडी, शिमला, सोलन, सिरमौर और किन्नौर में तूफान की चेतावनी दी गई है। गुरुवार को प्रदेश के कई इलाकों में बादल हैं और धुंध छाई है। ऐसा लग रहा है कि मानों सर्दियों का मौसम हो।

छितकूल में ताजा बर्फ गिरी

वहीं किन्नौर जिले के निचले इलाकों में बारिश (Rain) का दौर जारी है। बारिश के चलते राष्ट्रीय उच्च मार्ग-5 कखस्थल के समीप पागल नाला में मलबा आने की वजह से बंद हो गया है। जिले में एक वाहन को मलबे की वजह से नुकसान भी हुआ है। सड़क मार्ग को खोलने का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। इस नाले में मलबा आना लगातार जारी है। इस हादसे में किसी तरह की जानी नुकसान नहीं हुआ है। किन्नौर में ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी भी हुई है। छितकूल में ताजा बर्फ गिरी है।

शिमला में हल्की बारिश

इससे पहले, बुधवार को रोहतांग दर्रा के साथ कुंजुम दर्रा, बारालाचा सहित ऊंची पहाड़ियों, मनाली के मकवरे, शिकवरे, हनुमान टिब्बा, सेव स्टिर पीक, पिन पार्वती की पहाड़ियों में दोपहर बाद बर्फ के फाहे गिरे हैं। प्रशासन ने पर्यटकों के साथ आम लोगों को अटल टनल रोहतांग के आसपास व अन्य संवेदनशील इलाकों में न जाने की हिदायत दी है। किन्नौर प्रशासन ने लोगों से मौसम ठीक न होने तक घरों पर ही सुरक्षित रहने की अपील की है। शिमला और आसपास बुधवार को हल्की बूंदाबांदी हुई।

इस जिले में हुई इतनी बारिश

मौसम विज्ञान (IMD) केंद्र शिमला के अनुसार, सूबे में सबसे अधिक बारिश किन्नौर जिले के कल्पा में हुई है। यहां 44.8 एमएम पानी बरसा है। इसके बाद सिरमौर जिले के नाहन में 13 एमएम बारिश हुई है। पालमपुर और सोलन में 6-6, शिमला के नारकंडा में 11 एमएम पानी बरसा है और पावंटा साहिब में 16 बारिश दर्ज हुई है। बारिश के वजह से अधिकतम तापमान सामान्य से 2 से 3 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया है।

Next Story