Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हिमाचल के प्राइवेट बस ऑपरेटरों ने दे डाली ये चेतावनी, जानने के लिए पढ़ें ये खबर

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के प्राइवेट बस ऑपरेटर पीछे हटने के मूड में नहीं दिखते हैं। ऑपरेटरों ने दो टूक कहा है कि अगर 5 जून को होने वाली कैबिनेट (Cabinet) की बैठक में ऑपरेटरों के हित में कोई फैसला नहीं होता है तो अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रहेगी।

हिमाचल के प्राइवेट बस ऑपरेटरों ने दे डाली ये चेतावनी, जानने के लिए पढ़ें ये खबर
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के प्राइवेट बस ऑपरेटर पीछे हटने के मूड में नहीं दिखते हैं। ऑपरेटरों ने दो टूक कहा है कि अगर 5 जून को होने वाली कैबिनेट (Cabinet) की बैठक में ऑपरेटरों के हित में कोई फैसला नहीं होता है तो अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रहेगी। यह निर्णय वर्चुअली हुई हिमाचल प्रदेश निजी बस ऑपरेटर संघ (Himachal Pradesh Private Bus Operators Association) की बैठक में लिया गया। यह बैठक संघ के प्रधान राजेश पराशर की अध्यक्षता में संपन्न हुई।

आपको बता दें कि प्रदेश में प्राइवेट बस ऑपरेटर संघ के प्रदेश महासचिव रमेश कमल ने बताया कि बैठक में जिला के पदाधिकारी एवं अन्य प्राइवेट बस ऑपरेटर उपस्थित थे। इस बैठक में उक्त फैसला सर्वसम्मति से लिया गया है। बैठक को संबोधित करते हुए हिमाचल प्राइवेट बस ऑपरेटर संघ के प्रदेश अध्यक्ष राजेश पराशर ने कहा है कि प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश के निजी बस ऑपरेटरों से सौतेला व्यवहार किया जा रहा है, जबकि हिमाचल प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर सरकार को अप्रत्यक्ष रूप से भी कई तरह का टैक्स (Tax) अदा करते हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर डीजल से लेकर के स्पेयर पार्ट्स (Spare Parts) खरीद करके भी सरकार को टैक्स उपलब्ध करवाते हैं, लेकिन हिमाचल प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर सरकार से इतनी सहायता चाहते हैं कि जो टैक्स लोगों से इकट्ठा करके किराए के रूप में सरकार को देना है, सको माफ किया जाए, जिसके लिए सरकार को किसी भी बजट का प्रावधान करने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा एचआरटीसी (HRTC) के चालकों-परिचालकों को फ्रंट लाइन वर्कर्स (Front Line Workers) घोषित किया है, जबकि प्रदेश के निजी बसों में सेवाएं देने वाले चालकों-परिचालकों को इससे वंचित किया गया है। उन्होंने कहा कि 5 जून को अगर बस ऑपरेटरों के हक में कोई फैसला नहीं किया जाता है तो निजी बस ऑपरेटर अपने आंदोलन को और उग्र कर देंगे।

इस बैठक में जिला सिरमौर के प्रधान मामराज शर्मा, अखिल शर्मा, भागीरथ शर्मा, जिला ऊना के प्रधान राम सिंह, पंकज दत्ता, पवन ठाकुर, जिला कांगड़ा के उप प्रधान वीरेंद्र मनकोटिया, संदीप वालिया, सुभाष वालिया, अजय परिहार, सुरेश, निपुण गालोढा, जिला किन्नौर से गुलाब चंद नेगी, जिला चंबा के प्रधान रवि महाजन, विवेक, जिला सोलन के प्रधान जॉनी मेहता, नालागढ़ के मनोज राणा, बिलासपुर के प्रधान राजेश पटियाल, महासचिव राहुल चौहान, अनिल मिंटू, हिमालयन बस ऑपरेटर यूनियन शिमला के प्रधान वीरेंद्र कंवर, महासचिव अतुल चौहान, शिमला शहरी यूनियन के उप प्रधान प्रदीप शर्मा, महासचिव सुनील चौहान, हमीरपुर से भारत भूषण कपिल, मंडी के महासचिव हंस ठाकुर, इंजीनियर महेंद्र शर्मा व चेयरमैन गुलशन दीवान सहित प्रदेश के ऑपरेटर उपस्थित थे।

Next Story