Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आज प्रदेश मंत्रिमंडल की बैठक में हो सकता है बॉर्डर खोलने पर फैसला

हिमाचल की एंट्री पर लगी बंदिशों की समीक्षा के लिए मंगलवार को जयराम मंत्रिमंडल की महत्त्वपूर्ण बैठक होगी। इसमें बॉर्डर खोलने को लेकर बड़ा फैसला संभव है। इसके अलावा प्रदेश की टूरिज्म पालिसी को कैबिनेट की मंजूरी के लिए लाया जाएगा। तमाम सारी औपचारिकताओं के बाद इसकी फाइनल अप्रूवल का एजेंडा कैबिनेट में भेजा जा रहा है। मानसून सत्र के दौरान केबिनेट की यह अहम बैठक होगी।

आज प्रदेश मंत्रिमंडल की बैठक में हो सकता है बॉर्डर खोलने पर फैसला
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल की एंट्री पर लगी बंदिशों की समीक्षा के लिए मंगलवार को जयराम मंत्रिमंडल की महत्त्वपूर्ण बैठक होगी। इसमें बॉर्डर खोलने को लेकर बड़ा फैसला संभव है। इसके अलावा प्रदेश की टूरिज्म पालिसी को कैबिनेट की मंजूरी के लिए लाया जाएगा। तमाम सारी औपचारिकताओं के बाद इसकी फाइनल अप्रूवल का एजेंडा कैबिनेट में भेजा जा रहा है। मानसून सत्र के दौरान केबिनेट की यह अहम बैठक होगी। इसमें सबसे बड़ा फैसला कोविड रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पर होगा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का कहना है कि अब हर तरफ से हिमाचल की एंट्री के लिए छूट देने के प्रस्ताव आ रहे हैं। उनका कहना है कि हालांकि इसके बाद संक्रमण के मामले और बढ़ सकते हैं। इसके चलते यह मामला चर्चा के लिए कैबिनेट में लाया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार ने एक सितंबर से हिमाचल के बॉर्डर खोलने की तैयारी की थी। इसी बीच संक्रमण के मामले दहाई से बढ़कर सैकड़ों में रोजाना आने शुरू हो गए। इस कारण पहली सितंबर के बाद इस फैसले को चार सितंबर को प्रस्तावित केबिनेट पर छोड़ दिया गया। उस दौरान गहन मंथन के बाद कैबिनेट के अधिकतर सदस्यों ने बॉर्डर पर लगी बंदिशों को फिलहाल बंद रखने का सुझाव दिया था। नतीजतन प्रदेश मंत्रिमंडल ने 15 सितंबर तक हिमाचल एंट्री के लिए जारी दिशा-निर्देशों को यथावत रखने का फैसला पारित किया।

बहरहाल, इस फैसले के बाद बाहरी राज्यों से आवाजाही के लिए लोगों की मुसीबतें और बढ़ गई तथा संक्रमण के मामलों का ग्राफ भी लगातार बढ़ता गया। अब हिमाचल में प्रतिदिन 300 से 400 संक्रमण के नए मामले आ रहे हैं। प्रदेश में 20 मार्च से बाहरी राज्यों की आवाजाही के लिए बंदिशें लगी है। लगातार छह महीने से इस सख्ती को झेल रहे लोगों का सब्र अब टूटने लगा है। यही कारण है कि राज्य सरकार पर बॉर्डर को खोलने के लिए चौतरफा दबाव बढ़ने लगा है।

संक्रमण बढ़ने की आशंका

बॉर्डर खोल देने के बाद संक्रमण के मामले और ज्यादा बढ़ने की प्रबल संभावना है। खासकर स्वास्थ्य विभाग की कसरत इन परिस्थितियों में और ज्यादा बढ़ जाएगी। एक्टिव मरीजों के लिए अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या कम पड़ सकती है। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों का मानना है कि रोजाना संक्रमण के मामले हजारों में आने से स्थिति अनियंत्रित होने का भी खतरा है।

Next Story
Top