Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सैन्य सम्मान के साथ हुआ शहीद रोहिन का अंतिम संस्कार, पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगे नारे

नियंत्रण रेखा पर युद्ध विराम का उल्लंघन कर पाकिस्तान की ओर से हुई गोलीबारी में हमीरपुर जिले के गांव गलोड़ खास के जवान रोहिन कुमार शहीद हो गये।शनिवार को पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनका गांव में अंतिम संस्कार किया गया।

सैन्य सम्मान के साथ हुआ शहीद रोहिन का अंतिम संस्कार , पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगे नारे
X
हमीरपुर में शहीद जवान रोहिन को सैन्य सम्मान से दी अंतिम विदाई।

नियंत्रण रेखा पर युद्ध विराम का उल्लंघन कर पाकिस्तान की ओर से हुई गोलीबारी में हमीरपुर जिले के गांव गलोड़ खास के जवान रोहिन कुमार शहीद हो गये।शनिवार को पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनका गांव में अंतिम संस्कार किया गया।

रोहिन कुमार के पार्थिव शरीर को उनके चचेरे भाई मोहित कुमार ने मुखाग्नि दी। इस अवसर पर कैप्टन रूपेश राठौर के नेतृत्व में सेना की टुकड़ी ने सैन्य परंपराओं के अनुसार शहीद को सलामी देते हुए अंतिम विदाई दी।

शनिवार दोपहर बाद शहीद की पार्थिव देह हेलिकॉप्टर में हमीरपुर लाई गई। एनआईटी हमीरपुर के हेलीपैड से उनके पार्थिव शरीर को बाईरोड सैन्य वाहन में उनके पैतृक गांव गलोड़ खास ले जाया गया। इस मौके पर सेना की एक टुकड़ी और जिला प्रशासन और पुलिस के अधिकारी भी मौजूद रहे। शाम करीब छह बजे रोहिन का पार्थिव शरीर उनके घर पहुंचा।

यहां शहीद के परिजनों और उनके रिश्तेदारों ने उनके अंतिम दर्शन किए। घर से श्मशानघाट तक शुरू हुई शहीद की अंतिम यात्रा में रोते-बिलखते सैकड़ों लोग मौजूद रहे। देर सायं करीब सवा सात बजे उनका पूरे राजकीय और सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

इस अवसर पर कैप्टन रूपेश राठौर के नेतृत्व में सेना की टुकड़ी ने सैन्य परंपराओं के अनुसार शहीद को सलामी देते हुए अंतिम विदाई दी। शहीद की चिता को उनके ताया के बेटे मोहित कुमार ने मुखाग्नि दी। जानकारी के मुताबिक रोहिन कुमार पुत्र रसील सिंह अप्रैल, 2016 को 14 पंजाब रेजीमेंट में भर्ती हुआ था। वह बहुत ही साधारण परिवार से संबंध रखता था। पिता घर का खर्च चलाने के लिए प्राइवेट नौकरी कर रहे हैं।

एक बहन है, जिसकी शादी हो चुकी है और घर में मां और दादी है। बताते हैं कि फरवरी में रोहिन घर छुट्टी आया था। परिवार ने उसकी सगाई भी कर दी थी और नवंबर में उनकी शादी होनी थी। सर्वोच्च बलिदान के लिए शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए जिलाधीश हरिकेश मीणा ने बताया कि 14 पंजाब रेजिमेंट में सेवारत 24 वर्षीय रोहिन कुमार जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में तैनात थे। शनिवार सुबह रोहिन कुमार के शहीद होने की सूचना मिलते ही प्रशासन की ओर से स्थानीय स्तर पर सभी आवश्यक प्रबंध आरंभ कर दिए गए थे।

सीएम जयराम ठाकुर ने शाेक व्यक्त किया

प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने रोहिन कुमार की शहादत पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि शहीद रोहिन कुमार ने एक योद्धा के रूप में अपने कर्तव्य का पालन करते हुए अद्वितीय साहस का परिचय दिया है। देश के लिए उनके शौर्य और बलिदान को सदैव याद किया जाएगा। उन्होंने ईश्वर से उनके परिवार को इस अपूरणीय क्षति को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है।

पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगाए नारे

शहीद रोहित की पार्थिव देह जैसे ही उनके पैतृक गांव पहुंची, तो वहां बड़ी संख्या में तैनात युवाओं ने भारत माता की जय, वंदे मातरम् और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए। अपना दोस्त अपना बेटा खोने पर एक तरफ जहां गलोड़ का हर व्यक्ति शोकाकुल था, वहीं देश की खातिर शहीद हुए गलोड़ के इस सपूत की शहादत पर उन्हें फक्र भी महसूस हो रहा था। उधर, युवाओं में पाकिस्तान को लेकर रोष देखा जा रहा था। सभी पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे।

Next Story
Top