Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अटल टनल रोहतांग के उद्घाटन के बाद घाटी के लोगों का सपना हुआ पूरा

आखिर वो पल आ ही गया जिसका इंतजार लाहौल घाटी के बाशिंदे सदियों से कर रहे थे। आज उन्हें छह माह तक बर्फ की कैद से मुक्ति मिलने वाली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से अटल टनल रोहतांग के उद्घाटन के पल को देखने के लिए घाटी के लोग पलकें बिछाए हुए हैं।

अटल टनल रोहतांग के उद्घाटन के पल को देखने के लिए पलकें बिछाए बैठे हैं घाटी के लोग
X
फाइल फोटो

आखिर वो पल आ ही गया जिसका इंतजार लाहौल घाटी के बाशिंदे सदियों से कर रहे थे। आज उन्हें छह माह तक बर्फ की कैद से मुक्ति मिलने वाली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से अटल टनल रोहतांग के उद्घाटन के पल को देखने के लिए घाटी के लोग पलकें बिछाए हुए हैं। यह दिन उनके लिए बहुत बड़ी सौगात लेकर आया है। सदियों से छह महीने की बर्फ की कैद से आज लाहौल स्पीति के लोगों को आजादी मिल जाएगी।

घाटी के लोगों का अरसे से संजोया सपना पूरा होने जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बहुप्रतीक्षित अटल टनल का लोकार्पण करने जा रहे हैं। 37 साल पहले इस सुरंग का संकल्प रखा गया। आखिर लंबे इंतजार के बाद वह क्षण आ ही गया है, जब यह टनल बनकर तैयार हो गई है। लाहौल स्पीति के लोग शेष विश्व से छह महीने के लिए पूरी तरह से कट जाते हैं।

रोहतांग दर्रे पर बर्फ के पहाड़ जम जाते हैं तो दुनिया के अन्य हिस्सों में जाने का कोई भी रास्ता यहां के लोगों के पास नहीं होता है। ऐसे में अक्तूबर से लेकर मार्च-अप्रैल महीनों तक लोगों को अपने घरों में ही कैद होना पड़ता है। केलांग और उदयपुर को छोड़कर सारे बाजार बंद हो जाते हैं। आबादी वाले हिस्से में औसतन दस से बारह फीट तक बर्फ गिर जाती है। इसलिए लोगों को छह महीने के अनाज, राशन, पानी, लकड़ी, दवा आदि का प्रबंध पहले ही कर लेना पड़ता है।


Next Story