Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Night Curfew In Himachal: हिमाचल के चार जिलों में 31 तक जारी रहेगा नाईट कर्फ्यू, सरकारी कार्यालयों के लिए फाइव डे वीक व्यवस्था को किया खत्म

हिमाचल प्रदेश में बढ़ते कोरोनावायरस के चलते राज्य में कोविड की बंदिशों को लेकर नई गाइडलाइंस जारी की गई हैं। इसके तहत पांच जनवरी तक लगाई गई बंदिशें, अब 31 जनवरी तक लागू रहेंगी।

हिमाचल के चार जिलों में 31 तक जारी रहेगा नाईट कर्फ्यू, सरकारी कार्यालयों के लिए फाइव डे वीक व्यवस्था को किया खत्म
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश में बढ़ते कोरोनावायरस के चलते राज्य में कोविड की बंदिशों को लेकर नई गाइडलाइंस जारी की गई हैं। इसके तहत पांच जनवरी तक लगाई गई बंदिशें, अब 31 जनवरी तक लागू रहेंगी। राज्य में दो जनवरी (शनिवार) को अंतिम फाइव डेज वीक होगा। कोविड अस्पतालों में फायर सेफ्टी सिस्टम स्थापित करना अनिवार्य कर दिया गया है। चार जिलों कुल्लू, मंडी, कांगड़ा और शिमला में नाईट कर्फ्यू रात 10 से सुबह छह बजे तक जारी रहेगा। इसके अलावा सभी प्रकार के आयोजनों के लिए संबंधित एसडीएम से अनुमति लेना जरूरी होगा। इनमें 50 तक की भीड़ का प्रतिबंध यथावत रखा गया है।

नई गाइडलाइंस के तहत अब हिमाचल प्रदेश के कोविड अस्पतालों में फायर सेफ्टी सिस्टम की व्यवस्था को डीसी सुनिश्चित करेंगे। फाइव डेज वीक को लेकर बनी अनिश्चितता भी समाप्त कर दी गई है। कार्मिक विभाग ने अपने आदेशों में स्पष्ट किया है कि सरकार ने पांच जनवरी तक फाइव डेज वीक का प्रावधान किया है। हालांकि सभी बंदिशों को अब पांच जनवरी के बजाय 31 जनवरी तक बढ़ा दिया गया है।

इसके विपरीत फाइव डेज वीक को इन बंदिशों से बाहर रखा गया है। इसके चलते कार्मिक विभाग ने अपने आदेशों में कहा है कि इस शनिवार यानी दो जनवरी को राज्य में वर्क फ्रॉम होम होगा। इसके तहत यह अंतिम फाईव डेज वीक बताया गया है। हालांकि मंत्रिमंडल की बैठक में इस व्यवस्था को आगे बढ़ाया जा सकता है। माना जा रहा है कि राजधानी शिमला में फाइव डेज वीक एक्सटेंड होगा, लेकिन जिलों में कर्मचारियों को शनिवार को भी कार्यालय बुलाया जा सकता है। इसी तरह अधिकतम 50 की संख्या पर भी कैबिनेट में चर्चा के बाद बदलाव संभव है।

आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि सीमित की गई भीड़ की संख्या को 100 किया जा सकता है। जाहिर है कि राज्य सरकार को 25 जनवरी को पूर्ण राज्यत्व दिवस की गोल्डन जुबली का आयोजन करना है। इसके अलावा पंचायत चुनावों के बाद प्रधानों का शपथ समारोह भी होगा। इसके चलते सोशल डिस्टेंसिंग और फेस कवर की कड़ी बंदिशों के साथ सरकार लोगों के इकट्ठा होने की संख्या बढ़ा सकती है। हालांकि 31 जनवरी तक बढ़ाई गई समयावधि के बीच सभी आयोजनों के लिए सबंधित उपमंडलाधिकारी से अनुमति लेनी जरूरी होगी। इसी तरह नाइट कर्फ्यू में भी बदलाव की संभावना दिख रही है।

Next Story