Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

किन्नौर होटल एसोसिएशन का फैसला: किन्नौर में पर्यटन गतिविधियां आगामी एक नवंबर तक रहेंगी बंद

हिमाचल प्रदेश में टूरिस्ट की एंट्री के लिए सरकार ने बॉर्डर खोल दिए हैं। लेकिन स्पीति के बाद अब किन्नौर जिले ने कोरोना वायरस के चलते टूरिस्ट को एंट्री देने से मना कर दिया है।

किन्नौर होटल एसोसिएशन का फैसला: किन्नौर में पर्यटन गतिविधियां आगामी एक नवंबर तक रहेंगी बंद
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश में टूरिस्ट की एंट्री के लिए सरकार ने बॉर्डर खोल दिए हैं। लेकिन स्पीति के बाद अब किन्नौर जिले ने कोरोना वायरस के चलते टूरिस्ट को एंट्री देने से मना कर दिया है। किन्नौर में यहां पर होटल, होम स्टे और सभी प्रकार की पर्यटन गतिविधियां आगामी एक नवंबर तक पूरी तरह बंद रहेंगी। रिकांगपिओ में आयोजित किन्नौर होटल एसोसिएशन एवं लोकल स्टेक होल्डर्स की संयुक्त बैठक में यह फैसला लिया गया है।

किन्नौर होटल एसोसिएशन के प्रेसिडेंट मोहन प्रकाश नेगी, महासचिव मुकेश रोमधारी और मुख्य प्रवक्ता शांता नेगी ने यह जानकारी दी। किन्नौर होटल एसोसिएशन का कहना है कि जिले में सेब सहित ड्राई फ्रूट का सीजन चरम पर है। ऐसे में हम नहीं चाहते कि पर्यटन को बढ़ावा देकर जिले में कोविड-19 को बढ़ावा मिले। इससे जिले की आर्थिकी भी पूरी तरह प्रभावित हो सकती है, जिले में आने वाले पर्यटकों को भी इससे कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जिले में पर्यटन की दृष्टि से आने वाले उन सभी पर्यटकों से अपील की है कि वे आगामी एक नवंबर तक जिले में प्रवेश न करें।

एक नवंबर के बाद किन्नौर होटल एसोसिएशन की ओर से सभी पर्यटकों का जिले में स्वागत है। लेकिन एहतियात के तौर पर जिले में पर्यटन गतिविधियां एक नवंबर तक बंद रहेंगी। गौरतलब है कि इससे पहले, स्पीति घाटी में भी स्थानीय होटल संचालकों और लोगों ने टूरिस्ट गतिविधियों से इंकार कर दिया है। सरकार या प्रशासन द्वारा रोक नहीं लगाई गई है। लेकिन स्थानीय लोगों ने अपने स्तर पर टूरिस्ट को इंकार कर दिया है। इन इलाकों में स्वास्थ्य सेवाएं अच्छी नहीं है। ऐसे में कोरोना के डर से यहां टूरिस्ट गतिविधियां बंद रखने की पहल की गई है।

Next Story