Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

करवाचौथ पर्व पर वायरस की मार, काेरोना के चलते आधी रह गई कमाई

हिमाचल प्रदेश में करवाचौथ पर्व पर कोरोना की मार पड़ी है। इस बार करवाचौथ पर 500 करोड़ का कारोबार हुआ है। हालांकि बीते साल के मुकाबले इस बार कारोबार को कम आंका गया है, मगर फेस्टिवल सीजन के दौरान बाजारों में भीड़ उमड़ने से कारोबारी वर्ग उत्साहित हैं।

करवाचौथ पर्व पर वायरस की मार, काेरोना के चलते आधी रह गई कमाई
X

फाइल फोटो

हिमाचल प्रदेश में करवाचौथ पर्व पर कोरोना की मार पड़ी है। इस बार करवाचौथ पर 500 करोड़ का कारोबार हुआ है। हालांकि बीते साल के मुकाबले इस बार कारोबार को कम आंका गया है, मगर फेस्टिवल सीजन के दौरान बाजारों में भीड़ उमड़ने से कारोबारी वर्ग उत्साहित हैं। कारोबार खुलने से उन्होंने राहत की सासें ली है। प्रदेश में करवाचौथ के दौरान एक हजार करोड़ तक का कारोबार होता है। राज्य में बीते साल भी एक हजार करोड़ तक का कारोबार रिकार्ड किया गया था, मगर इस साल करवाचौथ पर होने वाले कारोबार पर भी कोविड का साया पड़ा है और महज 500 करोड़ का ही कारोबार हो पाया है।

प्रदेश में करवाचौथ पर भले की बीते साल के मुकाबले कम कारोबार हुआ है, मगर बाजारों में ग्राहकों के उमड़ने और खरीददारी करने से कारोबारी वर्ग ने राहत की सांस ली है। प्रदेश में फेस्टिवल सीजन के दौरान कारोबार 80 फीसदी तक पहुंच गया है, जो बीते दिनों के दौरान 40 से 50 प्रतिशत तक ही चल रहा था। प्रदेश व्यापार मंडल के प्रदेशाध्यक्ष समुश शर्मा ने बताया कि फेस्टिवल सीजन के दौरान कारोबार ने रफ्तार पकड़ ली है। नवरात्र से कारोबार में इजाफा आना शुरू हो गया था। मौजूदा दिनों के दौरान कारोबार 80 प्रतिशत तक पहुंच गया है। करवाचौथ पर राज्य में 500 करोड़ का कारोबार रिकार्ड किया गया है।

करवाचौथ से एक दिन पूर्व भी बाजारों में खूब भीड़-भड़ाका रहा। महिलाओं ने पर्व मनाने के लिए बाजारों में जमकर खरीददारी की। बाजारों में कपड़ों की दुकानों सहित शृंगार, आभूषण विक्रताओं व मिठाइयों की दुकानों में दिनभर भीड़ जुटी रही। वहीं प्रदेश के कारोबारी वर्ग अब धनतेरस व दिवाली का इंतजार कर रहे हैं। कारोबार में इजाफा आने से कारोबारियों को उम्मीद है कि धनतेरस व दिवाली पर भी प्रदेश में अच्छा व्यापार होगा और उनकी मंदी दूर होगी।

Next Story