Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना वायरस का टेस्ट अब होगा 700 रुपये में, प्रदेश सरकार ने जारी किए आदेश

हिमाचल में कोरोना वायरस के मामले बढ़ने की गति धीमी नहीं है। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी बार-बार इस बात को कह रहे हैं कि हिमाचल में कम्युनिटी स्प्रैड का अभी कोई खतरा नहीं है। प्रदेश में 4174 कोरोना केस हैं जिनमें 1281 से ज्यादा एक्टिव केस हैं।

कोरोना वायरस का टेस्ट अब होगा 700 रूपये में, प्रदेश सरकार ने जारी किए आदेश
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल में कोरोना वायरस के मामले बढ़ने की गति धीमी नहीं है। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी बार-बार इस बात को कह रहे हैं कि हिमाचल में कम्युनिटी स्प्रैड का अभी कोई खतरा नहीं है। प्रदेश में 4174 कोरोना केस हैं जिनमें 1281 से ज्यादा एक्टिव केस हैं। हालांकि ठीक होने वालों की तादाद भी 2834 से ज्यादा है। प्रदेश में अक प्राइवेट लैब और अस्पताल को भी अब कोरोना टेस्ट के लिए अधिकृत किया गया है।

भारत सरकार के ताजा निर्देशों के बाद हिमाचल सरकार ने आदेश जारी किए हैं, इसमें चार निजी लैब और एक निजी अस्पताल शामिल है। हालांकि, कोरोना टेस्ट को लेकर स्टैंडर्ड प्रोटोकॉल के तहत आरटीपीसीआर टेस्ट को ही मान्यता है। चूकिं हिमाचल में एक भी आरटीपीसीआर टेस्टिंग लैब नहीं है। इसलिए रैपिड एंटीजन टेस्ट के लिए एसआरएल लैब शिमला, मंडी, हमीरपुर और टांडा के अलावा फोर्टिस अस्पताल कांगड़ा को भी अधिकृत किया गया है। सरकार की तरफ से एक टेस्ट की कॉस्ट 700 रूपये निर्धारित की गई है।

विशेष सचिव स्वास्थ्य निपुन जिंदल ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि रैपिड एंटीजन टेस्ट के लिए प्रोटोकॉल भी तय किया गया है, जिसमें अगर किसी की रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो वह कन्फर्म पॉजिटिव है। अगर वह नेगेटिव आता है और उसमें कोरोना के लक्षण भी नहीं हैं, तो वह कन्फर्म नेगेटिव माना जाएगा लेकिन अगर किसी के नेगेटिव आने के बावजूद उसमें लक्षण हैं तो उसे आरटी पीसीआर टेस्ट करवाना होगा।

हिमाचल के जनजातीय क्षेत्रों में बर्फबारी और सर्दी को देखते हुए कोविड 19 टेस्टिंग की प्रक्रिया में तेजी लाई जाएगी। विशेष सचिव स्वास्थ्य निपुन जिंदल ने कहा कि पांच स्थानों पर ट्रू नॉट मशीनें लगाई जाएंगी, जहां पर कोरोना के टेस्ट हो सकेंगे। इसमें रिकांगपियो, काजा, किन्नौर, भरमौर और पांगी शामिल हैं। ऐसे में यहां पर टेस्टिंग बढ़ेंगी। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश देश की तुलना में सबसे ज्यादा टेस्ट कर रहा है। इस वक्त हिमाचल में टेस्टिंग के लिए आठ आरटीपीसीआर सेंटर, 19 ट्रू नॉट सेंटर, दो जगह सीवी नेट मशीनों से टेस्टिंग हो रही है।


Next Story