Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

HP: इस बार मार्च में ली जाएंगी शीतकालीन और ग्रीष्मकालीन दोनों परीक्षाएं

कोरोना की वजह से स्कूली बच्चों को पढ़ाई में जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई करने के लिए इस बार हिमाचल के स्कूलों में सर्दियों की छुट्टियां नहीं होंगी। मार्च में शीतकालीन और ग्रीष्मकालीन दोनों स्कूलों की परीक्षाएं ली जाएंगी।

HP: इस बार मार्च में ली जाएंगी शीतकालीन और ग्रीष्मकालीन दोनों परीक्षाएं
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

कोरोना की वजह से स्कूली बच्चों को पढ़ाई में जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई करने के लिए इस बार हिमाचल के स्कूलों में सर्दियों की छुट्टियां नहीं होंगी। मार्च में शीतकालीन और ग्रीष्मकालीन दोनों स्कूलों की परीक्षाएं ली जाएंगी। कोरोना संकट के चलते शैक्षणिक सत्र 2020-21 के कोटे की सभी छुट्टियां समाप्त हो चुकी हैं। ऐसे में शिक्षा विभाग ने जनवरी और फरवरी में भी पढ़ाई जारी रखने का फैसला लिया है।

उधर, केंद्र सरकार से जारी हुई अनलॉक फोर की गाइडलाइन के अनुसार नवीं से बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों को 21 सितंबर से स्कूलों में बुलाने को हरी झंडी मिल गई है। केंद्र ने अभिभावकों के सहमति पत्र पर बच्चों को शिक्षकों से गाइडेंस लेने के लिए स्कूलों में भेजने को मंजूरी दी है। केंद्र ने अंतिम फैसला राज्य सरकारों पर छोड़ा है। ऐसे में अब सरकार चार सितंबर को प्रस्तावित मंत्रिमंडल बैठक में इस पर फैसला लेगी।

केंद्र सरकार से जारी गाइडलाइन में तीस सितंबर तक स्कूल, कॉलेजों और कोचिंग संस्थानों को बंद रखने का फैसला लिया गया है। हालांकि केंद्र सरकार ने राज्यों को अपने स्तर पर फैसले लेने के लिए कुछ छूट भी दी है। प्रदेश शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारियों ने बताया कि केंद्र सरकार ने कंटेनमेंट जोन से बाहर वाले स्कूलों में नौवीं से बारहवीं कक्षा शुरू करने के लिए आने वाले दिनों में स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से एसओपी जारी करने की बात कही है।

एसओपी के जारी होते ही सरकार उसको लेकर कार्रवाई शुरू कर देगी। इसके अलावा केंद्र सरकार ने 21 सितंबर से 50 फीसदी शिक्षकों और गैर शिक्षकों को भी स्कूल बुलाने को कह दिया है। ऐसे में पहली से आठवीं कक्षा की ऑनलाइन पढ़ाई की मॉनीटरिंग 21 सितंबर से शिक्षक स्कूल आकर ही करेंगे। इन दोनों मामलों को लेकर राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में प्रस्ताव ले जाया जाएगा। 21 सितंबर से नवीं से बारहवीं कक्षा के स्कूल हिमाचल में खोले जाएंगे या नहीं। इसका फैसला मंत्रिमंडल की बैठक में होगा।

अगले साल जनवरी और फरवरी में भी स्कूल खुलेंगे। सर्दियों की छुट्टियां अब नहीं दी जाएंगी। बर्फबारी वाले जिलों में अगर स्कूल खोलना मुमकिन नहीं हुआ तो वहां ऑनलाइन ही पढ़ाई जारी रखी जाएगी। अन्य क्षेत्रों में स्कूल खोल दिए जाएंगे। इसको लेकर भी मंत्रिमंडल की बैठक में चर्चा होगी।


Next Story