Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Himachal Panchayat Election: प्रदेश में 19 दिसंबर के बाद कभी भी लग सकती है आचार संहिता

Himachal Panchayat Election: हिमाचल प्रदेश में पंचायत चुनाव जल्द ही होने जा रहें हैं। राज्य चुनाव आयोग जल्द ही चुनाव की घोषणा कर सकता है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि 19 दिसंबर के बाद राज्य में कभी भी पंचायत चुनाव को लेकर आचार संहिता लग सकती है।

Himachal Panchayat Election: प्रदेश में 19 दिसंबर के बाद कभी भी लग सकती है आचार संहिता
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

Himachal Panchayat Election: हिमाचल प्रदेश में पंचायत चुनाव जल्द ही होने जा रहें हैं। राज्य चुनाव आयोग जल्द ही चुनाव की घोषणा कर सकता है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि 19 दिसंबर के बाद राज्य में कभी भी पंचायत चुनाव को लेकर आचार संहिता लग सकती है। मुख्यमंत्री ने चुनाव में लोगों से सही और ईमानदार लोगों का चयन करने की अपील की। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर बुधवार को शिमला से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सिराज के थुनाग में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की 325वीं शाखा का लोकार्पण करते हुए बोल रहे थे।

पंचायतें विकास की रीढ़: मुख्यमंत्री

सीएम ने कहा कि गांवों में पंचायतें विकास की रीढ़ है, जिसका नेतृत्व सही हाथों में होना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बार महिलाओं को आगे आने का मौका मिला है, जिससे नारी सशक्तिकरण को बल मिलेगा। सीएम ने कहा कि सरकार पंचायत चुनावों को लेकर पूरी तरह तैयार है। प्रदेश की पंचायतों में सर्वसम्मति से अधिकतर चुनाव हों तो प्रदेश हित में होगा।

3615 पंचायतों में होने हैं चुनाव

बता दें कि हिमाचल प्रदेश में 3615 पंचायतों में चुनाव होने हैं। इनमें 412 नई पंचायतें हैं। इन सभी पंचायतों की फाइनल मतदाता सूचियां 18 दिसंबर को जारी होंगी। वहीं मंडी, शिमला, सोलन, हमीरपुर, किन्नौर में पंचायत चुनाव का रोस्टर जारी किया जा चुका है। सभी जिलों में आधी आबादी यानी महिलाओं के प्रधान से लेकर वार्ड़ मैंबरों के पद आरक्षित किए गए हैं।

अवैध कब्जाधारी भूल जाएं चुनाव

हिमाचल प्रदेश में अवैध कब्जाधारी और क्रिमिनल रिकार्ड वाले व्यक्ति पंचायत और नगर निकाय चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। नामांकन पत्र दाखिल करते समय सभी प्रत्याशियों को लिखकर देना होगा कि उसने या उसके परिवार ने किसी प्रकार का कोई अवैध कब्जा नहीं किया है और उनके खिलाफ किसी प्रकार का कोई आपराधिक मामला भी दर्ज नहीं है। यदि ऐसे किसी व्यक्ति ने चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरा है, तो उसके खिलाफ कोई भी शिकायत कर सकता है, तो छंटनी के वक्त उसकी सारी जांच होगी।

Next Story