Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लैंडस्लाइड के चलते चीन सीमा को जोड़ने वाला ग्रांफू-काजा हाईवे बंद, वाहनों के फंसे होने की आशंका

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में बारिश से भारी नुकसान हुआ है। भारी बारिश से कई स्थानों पर भूस्खलन (Landslide) हुआ है। भूस्खलन से लाहौल स्पीति में लाहौल (Lahaul) से स्पीति के जरिये समदो स्थित चीन सीमा को जोड़ने वाला ग्रांफू-काजा हाईवे 505 फिर भूस्खलन से बंद हो गया है।

लैंडस्लाइड के चलते चीन सीमा को जोड़ने वाला ग्रांफू-काजा हाईवे बंद, वाहनों के फंसे होने की आशंका
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में बारिश से भारी नुकसान हुआ है। भारी बारिश से कई स्थानों पर भूस्खलन (Landslide) हुआ है। भूस्खलन से लाहौल स्पीति में लाहौल (Lahaul) से स्पीति के जरिये समदो स्थित चीन सीमा को जोड़ने वाला ग्रांफू-काजा हाईवे 505 फिर भूस्खलन से बंद हो गया है। पहाड़ी से चट्टाने गिरने से हाईवे पर कुछ वाहन भी फंसे होने की सूचना है। बीआरओ अपनी मशीनरी के साथ हाईवे को बहाल करने में जुटा है। सुरक्षा की दृष्टि से यातायात के लिए यह मार्ग अति संवेदनशील है। बीते तीन दिन से यह मार्ग बंद और ओपन हो रहा है। मार्ग पर सफर करना खतरे खाली नहीं है। वहीं, लेह मनाली मार्ग भी बारलाचा पर भूस्खलन (Landslide) के चलते अब तक खोला नहीं जा सका है।

गुरुवार को देर रात हिमाचल में भारी बारिश हुई है। कुल्लू में सबसे अधिक पानी बरसा है। वहीं, शुक्रवार को भी मौसम खराब बना हुआ है और बादल छाए हुए हैं। कुल्लू के भुंतर में गुरुवार रात से लेकर सुबह तक 32 एमएम, केंलाग में 10 एमए, नाहन, 20, मनाली में 17 एमएम, सोलन में 12 और मंडी में 5 एमएम बारिश हुई है। रोहतांग दर्रा के साथ बारालाचा, कुंजुम दर्रा सहित लाहौल की ऊंची पहाड़ियों में ताजा बर्फबारी हुई है। गुरुवार रात को जिला कुल्लू में भारी बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। ब्यास के साथ नदी नालों का जलस्तर बढ़ गया है। मनाली से लेह जाने वाले वाहन अभी दारचा के आसपास फंसे है।

वहीं राज्य में अगले चार दिन के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग की ओर से कहा गया है कि 21 जून तक प्रदेश भर में मौसम खराब रहेगा और इस दौरान लैंडस्लाइड होने का भी खतरा है।

शिमला जिले के चौपाल में गुरुवार को भूस्खलन के चलते दो महिलाओं की मौत हो गई। नेरवा से करीब 10 किलोमीटर दुर बजाथल-घुंटाड़ी सड़क मार्ग पर सिलोड़ी कैंची में पीडब्लूडी विभाग के एक्सईएन और सहायक अभियंता के आने की सूचना के बाद सड़क की खस्ताहालत का दुखड़ा सुनाने के लिए सैकड़ों ग्रामीण पैदल अधिकारियों से मिलने जा रहे थे। अचानक सत्कालड़ी नाला नामक स्थान पर पहाड़ी से चट्टाने और मलबा गिर गया। कुछ लोगों ने भाग कर अपनी जान बचाई, मगर 7 लोग मलबे की चपेट में आ गए।

Next Story