Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

परिवार ने घर में मनाई बेटे के जन्म लेने की खुशी, कुछ घंटे बाद अस्पताल ने थमा दी बेटी तो पिता ने उठा लिया ये बड़ा कदम

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के मंडी जिले (Mandi District) में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां जोनल अस्पताल (Zonal Hospital) में एक महिला की हुई। जिसके बाद उसे घरवालों को बेटा होने की जानकारी दी।

परिवार ने मनाई पुत्र रत्न प्राप्ती की खुशी , अस्पताल ने बिटिया थमाई तो शुरू हुआ विवाद
X

परिवार ने मनाई पुत्र रत्न प्राप्ती की खुशी , अस्पताल ने बिटिया थमाई तो शुरू हुआ विवाद

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के मंडी जिले (Mandi District) में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां जोनल अस्पताल (Zonal Hospital) में एक महिला की डिलीवरी हुई। जिसके बाद उसे घरवालों को बेटा होने की जानकारी दी गई। इस पर परिवार के लोग खुशी मनाने लगे। घर पर मिठाई तक बटवा दी। इसी के अगले दिन अस्पताल (Hospital Administration) ने परिवार को लड़की हाथ में थमा दी। इस पर परिवार ने हंगामा शुरू कर दिया।

दरअसल, कुम्मी गांव की रहने वाली मधु गर्भवती थी। जिसकी डिलीवरी अस्पताल में हुई। पीड़िता के अनुसार, इस दौरान डॉक्टरों ने उसे एक बार नहीं, बल्कि तीन बार बेटा होने की जानकारी दी। बच्चे का जन्म 28 और 29 मई की रात को 2 बजकर 44 मिनट पर हुआ था और वहां मौजूद कर्मियों ने मधु को बार-बार बेटे होने की बधाई दी थी। इसके बाद बाहर खड़े मधु के पति विजय को भी यही बताया गया।

बता दें कि अगली सुबह जब नवजात को टीका लगवाने के लिए ले जाने लगे तो मालूम हुआ कि उन्हें तो लड़के की जगह लड़की थमा दी गई है। मधु बताती हैं कि जब इस बारे में छानबीन शुरू की तो मौके पर मौजूद कर्मियों ने यह कहकर बात घुमा दी कि बोलने में गलती हो गई थी। मधु का इससे पहले भी एक बेटा है। यह उसकी दूसरी डिलीवरी थी। अस्पताल और परिवार के बीच पैदा हुई गलतफहमी हंगामे में बदल गई।

मधु के पति विजय कुमार ने सीटी चौकी जाकर इसकी लिखित शिकायत की। विजय ने बताया कि पहले तो पुलिस ने आने से आनाकानी की, लेकिन बाद में आए भी तो सिर्फ खानापूर्ति करके लौट गए। विजय ने बताया कि पुलिसवालों ने किसी कागज पर उसके हस्ताक्षर करवाए और कहा कि कोई गड़बड़ नहीं हुई है, सिर्फ कुछ गलतफहमी हो गई है। आज विजय कुमार ने जिला प्रशासन और पुलिस को इसकी शिकायत सौंपकर मामले की निष्पक्ष जांच और डीएनए टेस्ट करवाने की मांग उठाई है, ताकि सच सामने आ सके।

वहीं मंडी की एसपी शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि उनके पास शिकायत आई है और सीटी चौकी पुलिस को दोबारा से मामले की जांच पड़ताल करने का निर्देश दिया गया है। जरूरत पड़ी तो फिर डीएनए टेस्ट भी करवाया जाएगा। यदि किसी की लापरवाही पाई जाती है तो फिर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

और पढ़ें
Next Story