Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Himachal Pradesh: 10 विधायकों को बिजली विभाग का नोटिस, 15 दिन में चुकाना होगा बिल

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में महंगाई ने रिकॉर्ड तोड़ रखा है। बढ़ती महंगाई से आम जनता तो परेशान है ही वहीं इस परेशानी का सामना बिधायकों (MLAs) को भी करना पड़ रहा है। आलम यह है कि 10 विधायकों पर अपने बिजली के बिल तक नहीं जमा करवा पाए हैं।

Himachal Pradesh: 10 विधायकों को बिजली विभाग का नोटिस, 15 दिन में चुकाना हो बिल
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में महंगाई ने रिकॉर्ड तोड़ रखा है। बढ़ती महंगाई से आम जनता तो परेशान है ही वहीं इस परेशानी का सामना बिधायकों (MLAs) को भी करना पड़ रहा है। आलम यह है कि 10 विधायकों पर अपने बिजली के बिल तक नहीं जमा करवा पाए हैं। थक हारकर बिजली विभाग (electricity department) ने 10 विधायकों को बिल जमा करवाने का नोटिस जारी (Notice Issued) किया है। अगर 15 दिनों के भीतर बिल नहीं चुकाया तो उनके बिजली कनेक्शन अस्थायी तौर पर काट दिए जाएंगे। बिजली बोर्ड की मानें तो विधायकों के आवासीय मकान में पिछले चार से छह महीने के बिजली बिलों का भुगतान नहीं किया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पांच हजार से लेकर 20 हजार तक के बिलों का भुगतान होना है। बिजली बोर्ड ने शहर के खलीनी स्थित ईस्ट बान होटल का बिजली कनेक्शन अस्थायी तौर पर काट दिया है। होटल में पांच बिजली मीटर लगे थे। इनमें चार व्यावसायिक और एक घरेलू था। चार मीटरों को अस्थायी तौर पर काट दिया गया है। इसके अलावा एक मीटर को काटने के लिए नोटिस थमाया है। होटल मालिक पर करीब 52 लाख रुपये का बिजली बिल बकाया है। आप इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि ऐसे बड़े-बड़े लोग अपना बिजली बिल नहीं भर पा रहे तो आम शख्स का क्या हाल होगा।

वहीं बिजली बोर्ड के सहायक अभियंता राकेश कुमार ने जानकारी दी कि व्यावसायिक, घरेलू, औद्योगिक इकाइयों के उपभोक्ताओं को बिलों का भुगतान न करने पर नोटिस जारी किए गए हैं। 15 दिन में बिल नहीं भरे तो कनेक्शन अस्थायी तौर पर काट दिया जाएगा। आपको बता दें कि प्रदेश भर में लगभग 300 करोड़ के बिल लंबित हैं। इसी मुहिम के तहत बिजली बोर्ड ने उपभोक्ताओं से बिलों को वसूलने के लिए नोटिस जारी करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। 1 हजार से अधिक बकाया वाले उपभोक्ताओं को भी नोटिस थमाएं जा रहे हैं। कई उपभोक्ता ऐसे भी हैं जिनको बिजली बोर्ड ने डिफाल्टर घोषित किया है।

और पढ़ें
Next Story