Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Himachal News : लंबलू ग्रामसभा का प्रस्ताव- शराब पीने वालों को बीपीएल की सूची से किया जाएगा बाहर

हिमाचल के हमीरपुर जिले में लंबलू ग्राम पंचायत द्वारा बड़ा ही शानदार प्रस्ताव पारित किया गया। जिससे रोज शराब पीकर हुड़दंग मचाने वालों की दिक्कतें बढ़ जाएंगी। प्रस्ताव के अनुसार शराब पीने वालों को बीपीएल से बाहर कर दिया जाएगा।

Himachal : लंबलू ग्रामसभा का प्रस्ताव- शराब पीने वालों को बीपीएल की सूची से किया जाएगा बाहर
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के हमीरपुर (Hamirpur) जिले में लंबलू ग्राम पंचायत द्वारा एक ऐसा निर्णय लिया गया है। जिसके बाद शराबियों (drunkard) की दिक्कतें बढ़ने वाली है। जी हां लंबलू ग्राम पंचायत (Lambalu Gram Panchayat) में शराब पीने वालों को बीपीएल की सूची (list of bpl) से बाहर कर दिखाया जाएगा। शनिवार को लंबलू में ग्रामीणों की सभा (Meeting) हुई। जिसमें ये प्रस्ताव पारित हुआ। प्रतिदिन शराब पीकर हुड़दंग करने वालों के विभिन्न केस पूर्व में पंचायत के समक्ष भी आ चुके हैं। इन मामलों के सामने आने के बाद ग्राम पंचायत प्रधान की पहल पर सभा द्वारा ये प्रस्ताव पारित किया गया। वैसे प्रधान द्वारा इन शराबियों को सुधरने का एक मौका भी दिया गया है। इसलिए इन लोगों को तुंरत प्रभाव से बीपीएल की लिस्ट से बाहर नहीं किया गया है। इन लोगों को दस दिन की चेतावनी दी गई व शराब छोड़ने का शपथ पत्र भी मांगा गया है।

प्रस्ताव के अनुसार जो शख्स शराब नहीं पीने का शपथ पत्र देगा, उसी शख्स को बीपीएल की लिस्ट में रखा जाएगा। ग्राम प्रधान द्वारा यह सूचना भी जुटाई गई है कि बीपीएल में शामिल कौन-कौन से परिवार का व्यक्ति शराब पीता है। साथ ही जो लोग अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूलों में पढ़ा रहे हैं। ऐसे लोगों के नाम भी बीपीएल की सूची में नहीं रखे जाएंगे। ग्रामसभा द्वारा लंबलू के चार परिवारों के नाम भी बीपीएल से हटाए गए हैं। पंचायत प्रधान करतार चौहान ने बताया कि कई गरीब घरों के लोग दिनभर मजदूरी करने के बाद शाम को शराब पीते हैं। पूर्व में ऐसे कई केस आए हैं। जिसकी वजह से यह निर्णय लेना पड़ा है।

प्रधान के अनुसार जो शराब पीता या हुड़दंग करता है, उसको ही बीपीएल की लिस्ट से बाहर कर दिया जाएगा। यदि 10 दिनों के अंतर ये परिवार शपथ पत्र देंगे तो उन्हें बीपीएल की लिस्ट में रखा जाएगा। गांव के लोगों से ये सुचनाएं जुटाईं गई हैं व इन परिवारों इस मामले की जानकारी भी दे दी गई है। जब यह प्रस्ताव पारित हुआ तो इस ग्रामसभा (बैठक) में 300 से ज्यादा गांव के लोग उपस्थित रहे।

और पढ़ें
Next Story