Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Himachal Pradesh By Election: मंडी लोकसभा सीट पर भाजपा को झटका, कांग्रेस प्रत्याशी प्रतिभा सिंह ने इतनी वोटों से दर्ज की जीत

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की तीन विधानसभा और लोकसभा की एक सीट पर हुए उपचुनाव (By-Election) के परिणाम आने शुरू हो गए हैं। फिलहाल मंडी लोकसभा सीट पर कांग्रेस की प्रत्याशी प्रतिभा सिंह (Congress candidate Pratibha Singh) ने जीत दर्ज की है। वे 8 हजार 766 वोटों से चुनाव जीत गई हैं।

मंडी लोकसभा सीट पर भाजपा को झटका, कांग्रेस प्रत्याशी प्रतिभा सिंह जीतीं
X

कांग्रेस प्रत्याशी प्रतिभा सिंह।

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की तीन विधानसभा और लोकसभा की एक सीट पर हुए उपचुनाव (By-Election) के परिणाम आने शुरू हो गए हैं। फिलहाल मंडी लोकसभा सीट पर कांग्रेस की प्रत्याशी प्रतिभा सिंह (Congress candidate Pratibha Singh) ने जीत दर्ज की है। वे 8 हजार 766 वोटों से चुनाव जीत गई हैं। बता दें कि 365650 हासिल किए। जबकि भाजपा प्रत्याशी कुशाल सिंह ठाकुर को 356884 वोट मिले। उपचुनाव में कुल 742771 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। इनमें से 12626 ने नोटा दबाया। अभी इसकी आधिकारिक घोषणा होना बाकि है। उधर, जुब्बल-कोटखाई विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस ने बाजी मार ली है। इस सीट से कांग्रेस प्रत्याशी रोहित ठाकुर की जीत गए हैं। इसी तरह अर्की विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी संजय अवस्थी और फतेहपुर सीट से कांग्रेस के ही भवानी सिंह पठानिया आगे चल रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश विधानसभा की तीन और लोकसभा की एक सीट के लिए हुए उपचुनाव को लेकर भारत निर्वाचन आयोग ने स्पष्ट किया है कि मतगणना पूरी होने के बाद किसी तरह के विजय जुलूस को निकालने की अनुमति नहीं होगी। इसके अलावा परिणाम आने के बाद रिटर्निंग अधिकारी से चुनाव प्रमाण पत्र लेने के समय भी विजयी प्रत्याशी के साथ सिर्फ दो अन्य लोग ही मौजूद रह सकेंगे। आयोग के आदेश के बाद मुख्य निर्वाचन अधिकारी सी पालरासू ने सभी रिटर्निंग अधिकारियों को स्पष्ट आदेश जारी कर दिए हैं कि वह आयोग के इस निर्देश का सख्ती से पालन सुनिश्चित करें।

आपको बता दें, अलावा कोविड दिशा-निर्देशों का भी सख्ती से अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है। बता दें कि आमतौर पर चुनावी नतीजे आने के बाद विजय जुलूस निकालने की परंपरा रही है, लेकिन कोविड की वजह से आयोग ने इस परंपरा को रोकने के लिए सख्त रुख अपनाया है। उधर, विजेता प्रत्याशी को चुनाव परिणाम आने के साथ ही सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी और उसे सुरक्षित घर तक पहुंचाना सुनिश्चित किया जाएगा।

और पढ़ें
Next Story