Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

विधानसभा में बोले सीएम, कांग्रेस विधायकों द्वारा राज्यपाल का अपमान किया जाना शर्मनाक

हिमाचल प्रदेश विधानसभा (himaachal pradesh Assembly) के बजट सत्र में सीएम जयराम ठाकुर (Cm Jairam Thakur) ने भाग लिया एवं सदन की कार्यवाही को संबोधित किया। वहीं उन्होंने सदन के सदस्यों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब दिए और राज्य सरकार (State Government) द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों से अवगत करवाया।

विधानसभा में बोले सीएम- कांग्रेस विधायकों द्वारा राज्यपाल का अपमान किया जाना शर्मनाक
X

विधानसभा में बोलते सीएम जयराम ठाकुर।

हिमाचल प्रदेश विधानसभा (himaachal pradesh Assembly) के बजट सत्र में सीएम जयराम ठाकुर (Cm Jairam Thakur) ने भाग लिया एवं सदन की कार्यवाही को संबोधित किया। वहीं उन्होंने सदन के सदस्यों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब दिए और राज्य सरकार (State Government) द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों से अवगत करवाया। आपको बता दें कि हिमाचल प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र (Himachal Budget Session) चल रहा है। आज बजट सत्र का तीसरा दिन है। विधानसभा के पूरे सत्र से निलंबित किए गए कांग्रेस विधायक (Congress MLA) विधानसभा के गेट के बाहर धरने पर बैठे हैं।

उधर, आज बजट सत्र (Budget Session) के तीसरे दिन कांग्रेस विधायकों ने दो बार सदन से वॉकआउट (Walkout) किया। पहले वॉकआउट के थोड़ी ही देर बाद विधायक सदन में लौट आए, लेकिन फिर से कांग्रेस के विधायकों ने वॉकआउट कर दिया। सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) ने सदन में कहा कि कांग्रेस के विधायकों ने राज्यपाल की गरिमा के खिलाफ कार्य किया है। इस तरह के कार्य की इजाजत नहीं दी जा सकती है। इस बीच कांग्रेस विधायकों (Congress MLA) ने बोलना शुरू कर दिया जिस पर विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने सदन को शांत करवाया।

सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि इससे पहले भी अभिभाषण को कई राज्यपाल ने पूरा नहीं पढ़ा है, लेकिन राज्यपाल के अभिभाषण के दिन कांग्रेस ने काम रोको प्रस्ताव दिया, जबकि ऐसी सदन में कोई व्यवस्था नहीं है। सीएम ने कहा कि राज्यपाल की गरिमा को नहीं देखना था तो उनकी उम्र का तो खयाल करते।

सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्यपाल के रास्ते को रोकना कहां तक सही है। सीएम ने कहा कि जब राज्यपाल (Governor) जैसे-तैसे गाड़ी के अंदर बैठ गए, लेकिन कांग्रेस के विधायकों ने गाड़ी खोलने का प्रयास किया और राज्यपाल को बाहर खींचने की कोशिश की गई। ये बहुत की दुख की बात है। इसको सहन नहीं किया जा सकता है।

वहीं उन्होंने कहा कि कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह ने आज सदन के अंदर अच्छा व्यवहार नहीं किया है। सीएम ने कहा है कि अगर कांग्रेस ने लड़ना है तो सरकार से लड़े ना कि संवैधानिक पद पर बैठे राज्यपाल से लड़े। इससे पहले भी कांग्रेस के विधायकों की तरफ से कई बार संवैधानिक मर्यादा को तोड़ा गया है।

Next Story