Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

युवक आत्महत्या मामले में पूर्व कांग्रेस विधायक बंबर ठाकुर को मिल सकती है क्लीन चिट, जानें पूरा मामला

आत्महत्या करने से पहले युवक ने फेसबुक लाइव पर पूर्व कांग्रेस विधायक बंबर ठाकुर समेत अन्य कई लोगों पर गंभीर आरोप लगाए थे। युवक का आरोप था कि पिछले छह महीनों से उसे प्रताड़ित किया जा रहा है। वहीं इस मामले की जांच-पड़ताल सीआईडी कर रही है।

युवक आत्महत्या मामले में पूर्व कांग्रेस विधायक बंबर ठाकुर को मिल सकती है क्लीन चिट, जानें पूरा मामला
X

कांग्रेस पूर्व विधायक बंबर ठाकुर

कांग्रेस (Congress) के पूर्व विधायक बंबर ठाकुर (Former MLA Bambar Thakur) के खिलाफ युवक को आत्महत्या (youth commit suicide) के लिए उकसाने के आरोप हैं। मामले में तफ्तीश सीआईडी (CID) कर रही है। वहीं मीडिया रिपोर्ट से सामने आया है कि इस मामले में कांग्रेस के पूर्व विधायक बंबर ठाकुर को सीआईडी ने क्लीन चिट दे सकती है। सामने आया है कि इस आरोप को सिद्ध करने के लिए सीआईडी पर्याप्त सबूत नहीं जुटा सकी है। जिससे साबित हो सके कि युवक को आत्महत्या के लिए पूर्व विधायक द्वारा उकसाया गया है। जांच-पड़ताल के क्रम में सीआईडी द्वारा वीडियो को भी सिलसिलेवार तरीके से देखा गया है।

इस वीडियो में युवक के दुखी होने व समस्या की वजह पूर्व विधायक के लोगों के होने की बात तो सामने आई है। पर ये सबूत नहीं मिले हैं कि युवक को आत्महत्या के लिए पूर्व विधायक ने ही उकसाया था। इस वजह से फिलहाल सीआईडी इस केस को ठंडे बस्ते में डालने की तैयारी में है।

आपको बता दें पिछले वर्ष जून महीने में बिलासपुर निवासी युवक अंशुल ने मंडी के पधर जाकर जहर पीने के बाद आत्महत्या कर ली थी। अपनी जान देने से पहले युवक फेसबुक लाइव पर आया और उसने पूर्व विधायक व दूसरे लोगों के खिलाफ सनसनीखेज आरोप लगाए थे।

इस दौरान युवक का आरोप था कि पिछले छह महीने से उसको प्रताड़ित किया जा रहा है। साथ कहा कि सभी लोग उसे जहर देकर मारना चाहते हैं। यह भा आरोप लगाया था कि अभिनेता सुशांत राजपूत के समान उसे भी आत्महत्या के लिए मजबूर किया जा रहा है।

इन आरोपों के आधार पर पुलिस ने पूर्व विधायक बंबर ठाकुर, अंशुल पवार, कारोबारी टोटा, गौरव व दीपक शर्मा के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोपों में मामला दर्ज किया। वैसे केस पूर्व विधायक व दो जिलों से जुड़ा था। इस वजह से पुलिस मुख्यालय ने मामले की जांच-पड़ताल सीआईडी को सौंप दी थी।

और पढ़ें
Next Story