Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना टेस्टिंग पर कारोबारियों में आक्रोश, प्रशासन ने दिए थे ये दिशा निर्देश

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में कोरोना के बढ़ते मामलों पर जिला प्रशासन (District Administration) ने सख्ती दिखाते हुए कारोबारियों का कोरोना टेस्ट (Corona Test) करने को कहा है। कोरोना टेस्ट के आदेश पर कारोबारियों ने आपत्ति जताई है।

कोरोना टेस्टिंग पर कारोबारियों में आक्रोश, प्रशासन ने दिए थे ये दिशा निर्देश
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में कोरोना के बढ़ते मामलों पर जिला प्रशासन (District Administration) ने सख्ती दिखाते हुए कारोबारियों का कोरोना टेस्ट (Corona Test) करने को कहा है। कोरोना टेस्ट के आदेश पर कारोबारियों ने आपत्ति जताई है। कारोबारी इसे उन्हें बिना विश्वास में लिए जारी किया गया तुगलकी फरमान करार दे रहे है। उनका आरोप है कि प्रशासन के इस फरमान से कारोबार जगत बुरी तरह प्रभावित होगा।

बता दें कि व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष सोमेश शर्मा ने कहा कि यदि किसी कारोबारी में कोविड-19 के लक्षण पाए जाते हैं या कोई कारोबारी किसी संक्रमित की क्लोज कांटेक्ट में पाया जाता है तो उसकी सैंपलिंग करवाना बिल्कुल उचित है। लेकिन बिना किसी कांटेक्ट ट्रेसिंग( Contact tracing) पर बिना किसी लक्ष्मण के हर कारोबारी का सैंपल करवाना न्याय उचित नहीं है। वहीं एसडीएम डॉ. निधि पटेल ने कहा की व्यापारी किसी भी अफवाह पर ध्यान दें। स्वेच्छा से ही अपने सैंपल करवाएं इसमें किसी से कोई जबरदस्ती नहीं की जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऊना में बढ़ रहे कोविड-19 संक्रमण के लगातार मामलों के बाद जिला प्रशासन ने ऊना शहर के कारोबारियों की सैंपलिंग करवाने का फैसला लेते हुए कुछ ही घंटों के भीतर सैंपलिंग( Sampling) का पूरा शेड्यूल भी जारी दिया है। दूसरी तरफ हिमाचल व्यापार मंडल ने प्रशासन के इस निर्णय को तुगलकी फरमान करार देते हुए इसपर कड़ी नाराजगी जाहिर की है।

व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष सोमेश कुमार शर्मा ने कहा कि प्रशासन का यह फरमान कारोबार जगत पर कुठाराघात साबित हो सकता है। यदि किसी कारोबारी में कोविड-19 के लक्षण पाए जाते हैं या कोई संक्रमित की कांटेक्ट ट्रेसिंग में शामिल पाया जाता है तो उसकी सैंपलिंग करवाना सही है।

लेकिन हर कारोबारी पर सैंपलिंग का आदेश थोपना प्रशासन का तुगलकी फरमान बताते हुए इसका विरोध कर रहे हैं। कारोबारियों का कहना है कि इस तरीके की हरकत किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। वहीं व्यापार मंडल की ऊना शहरी इकाई के अध्यक्ष मोती लाल कपिला ने कहा कि देश में लॉकडाउन( Lockdown) के बाद से अब तक कारोबार नुकसान की परिस्थिति से गुजर रहा है और ऐसे में अब प्रशासन के लिए आदेश है कारोबारियों के लिए और भी मुसीबत खड़ी करने वाले हैं।

Next Story