Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

निजीकरण के खिलाफ हड़ताल पर कर्मचारी, बोले- आम लोगों को बैंकों से ऋण लेना हो जाएगा मुश्किल

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में निजीकरण के खिलाफ बैंक कर्मचारी आज भी हड़ताल (Strike) पर हैं। बैंक कर्मचारियों के हड़ताल पर चले जाने से लोगों को काफी परेशानी का समना करना पड़ रहा है। कई इलाकों के एटीएम (ATM) में कैश खत्म होने से लोगों को दिक्कत हो रही है।

निजीकरण के खिलाफ हड़ताल पर कर्मचारी, बोले- आम लोगों को बैंकों से ऋण लेना हो जाएगा मुश्किल
X

प्रतीकात्मक तस्वीर।

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में निजीकरण के खिलाफ बैंक कर्मचारी आज भी हड़ताल (Strike) पर हैं। बैंक कर्मचारियों के हड़ताल पर चले जाने से लोगों को काफी परेशानी का समना करना पड़ रहा है। कई इलाकों के एटीएम (ATM) में कैश खत्म होने से लोगों को दिक्कत हो रही है। आपको बता दें कि यूनाइटेड बैंक (United Bank) एम्प्लॉय यूनियन के आह्वान पर ऊना जिले (Una District) की तमाम राष्ट्रीयकृत बैंकों के शाखाएं लगातार दूसरे दिन भी बंद रहीं और बैंक कर्मचारियों ने गगरेट में यूनाइटेड बैंक एम्प्लॉय यूनियन के बैनर तले एकत्रित होकर केंद्र सरकार (Central Government) के इस निर्णय के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यूनियन पदाधिकारियों ने कहा कि अगर सरकार ने अपने इस निर्णय को नहीं बदला, तो बैंक कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू करने से परहेज नहीं करेंगे। एसबीआई (SBI) अफसर एसोसिएशन के शिमला मॉड्यूल के सहायक महासचिव अंजन केशव ने कहा कि इन बैंकों में कर्मचारियों की भर्ती करते समय ये नहीं कहा था कि कल को बैंकों का निजीकरण किया जाएगा।

बता दें कि राष्ट्रीयकृत बैंक ही सरकारी योजनाओं को अमलीजामा पहना रहे हैं। इसलिए सरकार अपने निर्णय पर पुनर्विचार करे। बैंक कर्मचारियों (Bank Employees) ने अपनी मांगों के समर्थन में रोष रैल्ली भी निकाली। जि़ला ऊना में बैंक कर्मचारियों की हड़ताल से दो दिन में करोड़ों रुपये का व्यापार प्रभावित हुआ है। वहीं बैंक कर्मचारियों का कहना है कि निजीकरण से आम आदमी को बैंकों से पैसा लेना कठिन हो जाएगा।

Next Story