Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रेल मंत्री को पत्र लिखकर सिरसा एक्सप्रेस का रूट न बदलने की मांग

दिल्ली-रोहतक-जींद-भिवानी रेलमार्ग पर तमाम गाडि़यों को उनके वास्तविक नंबर पर ही चलाया जाए। यदि कोरोना फैलने का भय है तो पास धारक दैनिक यात्रियों को सफर करने की आज्ञा दी जाए। इससे हजारों दैनिक यात्रियों को राहत मिलेगी।

रेलवे
X

 रेलवे

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

दिल्ली-रोहतक दैनिक रेल यात्री समिति ने सिरसा एक्सप्रेस गाड़ी का मार्ग न परिवर्तित करने व दिल्ली-रोहतक रूट पर चल रही स्पेशल गाडि़यों को उनके वास्तविक नंबरों के आधार पर चलाने की मांग उठाई है। इस संबंध में समिति की ओर से रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखा गया है।

पत्र में लिखा गया है कि कोरोना महामारी के कारण 23 मार्च 2020 से दिल्ली-रोहतक रेल मार्ग पर सभी प्रकार की गाडि़यों का संचालन बंद कर दिया गया था। समय बीतता गया तो रोडवेज, निजी बसें और मेट्रो तक का परिचालन दोबारा शुरू हो गया। अब यातायात के तमाम संसाधन सुचारू रूप से चल रहे हैं। यहां तक की मुंबई व कोलकाता में लोकल गाडि़यां भी संचालित की जा रही है लेकिन दिल्ली-रोहतक रेल मार्ग पर सवारी, एक्सप्रेस, सुपरफास्ट गाडि़यों का संचालन आमजन के लिए पूरी तरह से बंद है। जीरो नंबर से आरंभ होने वाली आरक्षित गाडि़यां धड़ल्ले से चल रही है। लेकिन इन गाडि़यो में छात्र, श्रमिक एवं नौकरीपेशा वाले दैनिक यात्रियों का सफर करना प्रतिबंधित है। कोरोना के कारण हुई हानि की भरपाई के लिए ट्रेनों को विशेष गाडि़यां बनाकर चलाया जा रहा है, जो आम नागरिकों के साथ घोर अन्याय है। दिल्ली-रोहतक-जींद-भिवानी रेलमार्ग पर तमाम गाडि़यों को उनके वास्तविक नंबर पर ही चलाया जाए। यदि कोरोना फैलने का भय है तो पास धारक दैनिक यात्रियों को सफर करने की आज्ञा दी जाए। इससे हजारों दैनिक यात्रियों को राहत मिलेगी।

सिरसा एक्सप्रेस का रूट बदलने से नाराजगी

समित के सचिव पवन कुमार और प्रवक्ता सतपाल हाडा ने बताया कि 80 के दशक में तत्कालीन रेल मंत्री चौधरी बंसीलाल ने दिल्ली-बहादुरगढ़-रोहतक-भिवानी के दैनिक यात्रियों, व्यापारी वर्ग की मांग को पूरा करते हुए इस रूट पर भिवानी एक्सप्रेस (4085-4086) नाम से गाड़ी चलाई थी। शुरुआत में इसके आठ डिब्बे थे। यात्रियों की संख्या बढ़ी तो मांग को देखते हुए डिब्बों की संख्या 23 कर दी गई। इसके बाद यह गाड़ी राजनीतिक का शिकार हुई। इसे सिरसा स्टेशन तक विस्तार दिया गया। अब एक बार फिर इस गाड़ी का राजनीतिक कारणों से रूट बदलने का विचार रेल मंत्रालय कर रहा है। इस गाड़ी को तिलकब्रिज-बहादुरगढ़-रोहतक के बजाय तिलकब्रिज-रिवाड़ी-चरखी दादरी-भिवानी के रास्ते सिरसा तक चलाने के लिए काम चल रहा है। यह गाड़ी भिवानी, रोहतक, सांपला, बहादुरगढ़ और नांगलोई के दैनिक यात्रियों की लाइफलाइन है। इस गाड़ी का रूट परिवर्तित होता है तो हजारों लोगों को बेहद मुश्किल हो जाएगी। इसलिए इस संबंध मंे रेल मंत्री को पत्र लिखा गया है। उम्मीद है कि रेलमंत्री दैनिक यात्रियों की समस्याओं और उनकी मांगों पर ध्यान देंगे।

Next Story