Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ब्याज पर दिए रुपये वापस न मिलने पर महिला ने पी लिया कीटनाशक

परिजन महिला को बहादुरगढ़ के सरकारी अस्पताल में लेकर आए। यहां से उसे पीजीआई रेफर कर दिया गया। सूचना मिलते ही लाइनपार थाने से पुलिस पीजीआई पहुंची और महिला पूजा के बयान लिए।

जिंदगी को खत्म करने के लिए बाप-बेटे ने उठाया ये खौफनाक कदम, जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान
X

आत्महत्या

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

ब्याज पर दिए गए लाखों रुपये वापस न मिलने पर एक महिला ने कीटनाशक दवा का सेवन कर लिया। इससे महिला की तबीयत बिगड़ गई। महिला फिलहाल पीजीआई रोहतक में भर्ती है। उसकी सेहत में सुधार बताया जा रहा है। महिला की शिकायत पर लाइनपार थाना पुलिस ने संबंधित धाराओं के तहत बामड़ोली के निवासी पति-पत्नी पर केस दर्ज किया है।

रविवार को गांव बामड़ोली में रुपयों के लेनदेन को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया था। इस विवाद में एक महिला ने कीटनाशक दवा का सेवन कर लिया जिससे उसकी तबीयत बिगड़ गई। परिजन उसे बहादुरगढ़ के सरकारी अस्पताल में लेकर आए। यहां से उसे पीजीआई रेफर कर दिया गया। सूचना मिलते ही लाइनपार थाने से पुलिस पीजीआई पहुंची और महिला पूजा के बयान लिए। पूजा पत्नी यशपाल ने पुलिस को दी शिकायत में कहा कि गांव की निवासी आशा ने उससे रुपये मांगे थे। तब उसने सुनीता, सुधा, मनीषा, कीर्ति, पार्वती, रामो व बबीता आदि महिलाओं से 32 लाख रुपये लिए। ये रकम तीन प्रतिशत ब्याज की दर पर आशा को दे दी थी। आशा ने एक साल तक 11 लाख छह हजार रुपये ब्याज दिया। इसके बाद लॉकडाउन लग गया।

इस वजह से आशा ने ब्याज के पैसे नहीं दिए। कुल मिलाकर आशा से 32 लाख रुपये में से साढ़े 12 लाख रुपये मूल पूंजी मिल गई थी, लेकिन साढ़े 19 लाख रुपये बाकी थे। काफी बार मांगने के बाद भी आशा रुपये नहीं दे रही थी। वह रविवार को आशा के घर गई और रुपये मांगे तो आशा ने देने से मना कर दिया और धमकी देने लगी। बोली कि दोबारा रुपये मांगने आई तो तुझे व तेरे परिवार को मार देंगे। इस धमकी की टेंशन से उसने मच्छर मारने की दवा पी ली। उधर, पुलिस ने शिकायत के आधार पर धारा 406 व 506 के तहत केस दर्ज कर लिया है। जांच अधिकारी देवेंद्र कुमार ने कहा कि मामला रुपयों के लेनदेन से जुड़ा है। मामले में तफ्तीश शुरू कर दी गई है। जल्द ही इस केस को सुलझाया जाएगा।

Next Story