Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इस एप से कर सकेंगे हादसे में घायल लोगों और पशुओं की सहायता

दुर्घटना में घायल व्यक्ति की सहायता करने के लिए कुुरुक्षेत्र प्रशासन ने मोबाइल एप तैयार की है। इस एप पर प्रथम चरण में 12 तरह की घटना-दुर्घटना में घायल लोगों की सहायता की जा सकेगी।

इस एप से कर सकेंगे हादसे में घायल लोगों और पशुओं की सहायता
X

मोबाइल एप लांच करते उपायुक्त मुकुल कुमार। 

हरिभूमि न्यूज. कुरुक्षेत्र

कुरुक्षेत्र में अब आमजन किसी भी प्रकार की दुर्घटना में किसी भी अनजान व्यक्ति की सहायता कर सकेंगे। दुर्घटना में घायल व्यक्ति की सहायता करने के लिए प्रशासन ने हेल्प दा निडी मोबाईल एप तैयार की है। इस एप पर प्रथम चरण में 12 तरह की घटना-दुर्घटना में सहायता की जा सकेगी। आगामी सप्ताह में यह एप गूगल प्ले स्टोर पर भी उपलब्ध होगी। इस एप को एनआईसी अधिकारी विनोद सिंगला और उनकी टीम द्वारा तैयार किया गया है। खास बात यह है कि उपायुक्त शरणदीप कौर बराड़ ने दो माह पहले एनआईसी अधिकारियों के साथ चर्चा करके समाजसेवा करने के उदेश्य से एप बनाने के निर्देश दिए थे।

उपायुक्त मुकुल कुमार ने शुक्रवार को लोगों की सुविधा के लिए हेल्प दा निडी एप को विधिवत रुप से लांच किया। इससे पहले एनआईसी अधिकारी विनोद सिंगला ने हेल्प दा निडी मोबाईल एप के बारे में उपायुक्त के साथ-साथ तमाम अधिकारियों को जानकारी दी और बताया कि किस प्रकार इस एप से किसी अनजान व्यक्ति, घायल जानवर और पक्षी की सहायता की जा सकती है। उपायुक्त मुकुल कुमार ने कहा कि इस एप से कोई भी व्यक्ति सहजता से किसी भी घायल व्यक्ति की सहायता करने में सक्षम होगा। इस एप को नवीनतम तकनीकी को जहन में रखकर तैयार किया गया है और इस मोबाईल एप को एंड्रायंड व आईओएस मोर्बाइल पर डाउनलोड किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि समाज में किस प्रकार की तकनीकी का प्रयोग करके सही मायने में समाज सेवा की जा सकती है और समाज सेवा करना सबका नैतिक कर्तव्य है और इस मोबाईल एप की जरिए कोई भी व्यक्ति किसी जरुरतमंद की सहायता करने में सक्षम होगा।

एनजीओ के साथ शेयर किया जाएगा

इस एप को शुरुआती दौर में एनजीओ के साथ शेयर किया जाएगा। इसके बाद एनजीओ अपने सदस्यों के साथ करेगी और एनजीओ के सदस्य आमजन के साथ मोबाईल एप को शेयर करेंगे। इसके लिए एनआईसी कार्यालय में हर सप्ताह एनजीओ के साथ एक बैठक का आयोजन करने का भी प्रस्ताव तैयार किया जाएगा ताकि अधिक से अधिक लोगों तक इस मोबाईल एप को पहुंचाया ताकि हर व्यक्ति किसी जरुरतमंद व्यक्ति की सहायता करने में सक्षम हो सके। इतना ही नहीं आगामी एक सप्ताह में यह मोबाईल एप गूगल प्ले स्टोर भी उपलब्ध करवा दी जाएगी।


Next Story