Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पांच साल बाद पूरी हुई मुराद, अब मिलेगा पीने का पानी, सरकार ने दी मंजूरी

जुई कनाल से गोशाला तक करीब दो किलोमीटर पाइप लाइन डाले जाने का काम शुरू हो गया है। भिवानी गोशाला ट्रस्ट के प्रधान मोहनलाल अग्रवाल की अगुवाई में शहर के गणमान्य लोगों व ट्रस्टियों ने शनिवार को पाइपलाइन डालने के कार्य की शुरूआत से पहले भूमिपूजन किया और फिर नारियल तोड़कर पाइप लाइन डालने की विधिवत शुरुआत की।

पांच साल बाद पूरी हुई मुराद, अब मिलेगा पीने का पानी, सरकार ने दी मंजूरी
X

भिवानी : पाइप लाइन डालने से पहले शुभारंभ करते पदाधिकारी।

हरिभूमि न्यूज: भिवानी

करीब पांच साल बाद गोवंश को पीने का पर्याप्त पानी और हरा चारा उपलबध कराने की मुराद पूरी होने जा रही है। महम रोड स्थित भिवानी गोशाला ट्रस्ट पदाधिकारियों ने 2016 में मुख्यमंत्री को जुई कनाल से नहरी पानी उपलब्ध कराने का प्रस्ताव भेजा था, जिस परको सरकार ने मंजूरी दे दी थी। जुई कनाल से गोशाला तक करीब दो किलोमीटर पाइप लाइन डाले जाने का काम शुरू हो गया है।

भिवानी गोशाला ट्रस्ट के प्रधान मोहनलाल अग्रवाल की अगुवाई में शहर के गणमान्य लोगों व ट्रस्टियों ने शनिवार को पाइपलाइन डालने के कार्य की शुरूआत से पहले भूमिपूजन किया और फिर नारियल तोड़कर पाइप लाइन डालने की विधिवत शुरुआत की। गोशाला प्रधान मोहनलाल अग्रवाल ने बताया कि पिछले पांच सालों से गोवंश के लिए पीने के पानी और हरा चारा के लिए पर्याप्त नहरी पानी की मांग की जा रही थी। मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने गोवंश की समस्या को देखते हुए इस प्रस्ताव को मंजूरी दी। जुई कनाल से गोशाला तक करीब दो किलोमीटर लंबी प्लास्टिक की 11 इंची पाइप लाइन डाली जाएगी। इसमें इस्तेमाल होने वाला करीब 27 लाख कीमत का प्लास्टिक पाइप उनके चचेरे भाई राधेश्याम अग्रवाल ने दान में दिया हैं, उनकी गाजियाबाद में पाइप की फैक्ट्री है।

मोहनलाल ने बताया कि जुई कनाल से गोशाला तक स्पेशल पाइपलाइन डालने के काम में करीब 15 लाख रुपये का खर्च आएगा। फिलहाल गोशाला व उसकी करीब 300 एकड़ भूमि को भिवानी डिस्टीब्यूटरी नहर से पानी की आपूर्ति मिलती थी, लेकिन टेल तक ये नहर बंद हो चुकी है। गोशाला में इस समय करीब पांच हजार गोवंश हैं और उनके लिए हरा चारा मुहैया कराने के लिए आसपास करीब 300 एकड़ भूमि है। पानी के अभाव में गोशाला में गोवंश के लिए पीने का पानी भी बाहर से लाना पड़ता था। मगर अब गोवंश के लिए पर्याप्त पीने का पानी के साथ साथ हरा चारा उपलब्ध होगा। पाइपलाइन डालने का काम एक माह में पूरा कर लिया जाएगा।

Next Story