Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल को क्यों कहा गेम चेंजर, फ्रांस पर ये बोले

हम यह अच्छी तरह समझते हैं कि बदलते समय के साथ हमें स्वयं को भी तैयार करना होगा। यह बात रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने आज वायुसेना एयरफोर्स स्टेशन अम्बाला छावनी में आयोजित राफेल इंडक्शन सैरेमनी में बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित करते हुए कही।

आत्मनिर्भर भारत मुहिम का असर, 101 रक्षा वस्तुओं के आयात पर लगा प्रतिबंध
X
केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

चंडीगढ़। जिस ताकत को आज हम अपनी आंखों से देख पा रहे हैं, उसे पाने की राह में अनेक अड़चने भी आईं। परन्तु प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) की मजबूत इच्छाशक्ति के सामने वे सभी नेस्तनाबूत होती गईं, और हमारा मार्ग प्रशस्त होता गया। यह उन्हीं की दूरदर्शिता का परिणाम है जिसे हम आज फलीभूत होता देख रहे हैं।

हम यह अच्छी तरह समझते हैं कि बदलते समय के साथ हमें स्वयं को भी तैयार करना होगा। यह बात रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज वायुसेना एयरफोर्स स्टेशन अम्बाला छावनी में आयोजित राफेल इंडक्शन सैरेमनी में बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित करते हुए कही।

इंडियन एयरफोर्स में अत्याधुनिक लड़ाकू विमान राफेल के वायुसेना में शामिल होने के अवसर पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आप सभी के बीच आकर मुझे बड़ी ख़ुशी हो रही है। एयरफोर्स में राफेल का शामिल होना एक महत्वपूर्ण एवं ऐतिहासिक क्षण है और हम सब देशवासियों के लिए इस एतिहासिक पल का गवाह बनना, गौरव का विषय है। इस अवसर पर मैं हमारी वायुसेना, आम्र्ड फोर्स समेत, समस्त देशवासियों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं देता हूं।

रक्षा मंत्री ने कहा कि राफेल का इंडियन एयरफोर्स के बेड़े में शामिल होना भारत और फ्रांस के बीच के प्रगाढ़ संबंधों को दर्शाता है। भारत और फ्रांस लंबे समय से आर्थिक, सांस्कृतिक और रणनीतिक साझेदार रहे हैं। मजबूत लोकतंत्र के प्रति हमारी आस्था और सम्पूर्ण विश्व में शांति की कामना, हमारे आपसी संबंधों के आधार हैं।

अपने सम्बोधन में उन्होंने आगे कहा कि भारत और फ्रांस (France) के बीच एक स्पेशल स्ट्रैटजिक पाट्र्नरशिप है जो समय के साथ लगातार मजबूत हो रहा है। भारत की स्वाधीनता के बाद, हमारे देश और फ्रांस के बीच जीवंत रक्षा सहयोग विकसित हुआ है।उन्होंने कहा कि आज इनका इंडक्शन, पूरी दुनिया, ख़ासकर हमारी संप्रभुता की ओर उठी निगाहों के लिए एक बड़ा और कड़ा संदेश है। हमारी सीमाओं पर जिस तरह का माहौल हाल के दिनों में बना है, या मैं सीधा कहूँ कि बनाया गया है, उनके लिहाज से यह इंडक्शन बहुत अहम है।

रक्षा मंत्री ने कहा कि हमारी जिम्मेवारी केवल अपनी प्रादेशिक सीमाओं तक ही सीमित नहीं हैं, हम इंडो प्रशांत क्षेत्र और हिंद महासागर में भी लगातार एक जिम्मेदार देश के रुप में विश्व शांति एवं अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के साथ परस्पर सहयोग के लिये प्रतिबद्ध हैं। हमारी भूमिका इन क्षेत्रों में लगातार बढ़ रही है और इसकी सराहना भी हो रही है।

उन्होंने कहा कि इस मौके पर आज यहां भारतीय वायु सेना के साथियों को बधाई देना चाहूँगा कि, सीमा पर हाल में हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना के दौरान, एलएसी के पास भारतीय वायु सेना ने जिस तेजी और सूझ-बूझ से कार्रवाई की, वह देश के प्रति आपकी प्रतिबद्धता को दिखाता है। आपने आगे के ठिकाने पर जिस तेजी से अपने असैट्स तैनात किए, वह एक भरोसा पैदा करता है, कि हमारी वायुसेना अपने परिचालन दायित्वों को पूरा करने के लिए पूरी तरह तैयार है। भारतीय वायु सेना ने चल रहे संचालन में जो स्पीड दिखाई है, उसने निश्चित ही सभी संभावित विरोधियों को हमारे देश के इरादे के बारे में सन्देश दिया है। उन्होंने इस अवसर पर ऐतिहासिक 17 स्क्वाड्रन को विशेष बधाई देते हुए कहा कि भारतीय पराक्रम के इतिहास में आपका नाम चमकीले अक्षरों में दर्ज है। राफेल का इंडक्शन गोल्डन एरोज को नई चमक देगा। आप सभी राफेल यानि तूफ़ान की तरह गतिशील रहकर देश की 'अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करते रहें। इस मौके पर उनके साथ फ्रांस की रक्षामंत्री फ्लोरेंस पार्ली भी मौजूद रहीं। दोनों अतिथियों ने वायुसेना के जाबांज पायलटों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।

इस मौके पर फ्रांस की रक्षामंत्री फ्लोरेंस पार्ली ने भी अपने सम्बोधन में वायुसेना के अधिकारियों को राफेल के शामिल होने की बधाई देते हुए कहा कि भारत और फ्रांस के मधुर और प्रगाढ़ संबंध हैं। भारतीय सेना की मजबूती के लिए फ्रांस देश हमेशा उनके साथ खड़ा है। उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सेनाओं को मजबूती मिली है और देश भी निरंतर हर क्षेत्र में आगे बढ रहा है। उन्होंने रक्षा मंत्री का भी विशेष तौर पर आभार व्यक्त करते हुए कहा कि आज यहां इस कार्यक्रम में शामिल होने की काफी खुशी मिली है।

इस मौके पर प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जरनल विपिन रावत, वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर.के.एस. भदौरिया, रक्षा सचिव डा0 अजय कुमार, रक्षा विभाग के सचिव और डीआरडीओ के अध्यक्ष डा0 जी सतीश रेड्डी, मुख्य सचिव हरियाणा केशनी आनंद अरोड़ा, डीजीपी हरियाणा मनोज यादव, मंडलायुक्त दीप्ती उमाशंकर, आईजी अम्बाला वाई पूर्ण कुमार, उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा, पुलिस अधीक्षक राजेश कालिया, एसडीएम सचिन गुप्ता, एसडीएम सुभाष चंद्र सिहाग के साथ-साथ वायुसेना के वरिष्ठ अधिकारी व सशस्त्र बलों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

दुश्मनों के खिलाफ अचूक कार्रवाई करने में सक्षम

रक्षा मंत्री ने कहा कि हमारे मित्र देश फ्रांस के साथ राफेल डील, भारत की नेशनल सिक्योरिटी में एक गेम चेंजर है। इसका लोंग रेंज ऑपे्रशन अपने वजन के बराबर अस्त्र-शस्त्र और अतिरिक्त ईंधन लेकर जाने की कपेसिटी, शोर्ट लैंडिग से संचालित करने की एबिलिटी, हाई स्पीड जैसी खूबियां, इसे दुनिया के बैस्ट एयरक्राफ्ट में से एक बनाती हैं। अपनी मल्टी रोल क्षमता के साथ यह दुश्मनों के खिलाफ अचूक कार्रवाई करने में सक्षम है। मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि हमारी एयरफोर्स ने, राफेल इंडक्शन के साथ जो क्षमता और टेक्नोलॉजिकल एज एक्वायर की है, वे आईएएफ की कैपेबिल्टी को रिवोल्यूशनाईज़ करेंगी।

दृश्य बहुत ही रोमांचित करने वाला

सैरेमनी कार्यक्रम के दौरान वायुसैनिकों ने तेजस, राफेल लडाकू विमानों के माध्यम से आसमान में एयरशो के द्वारा विभिन्न करतब करके दिखाए, बडी तेजी से विमान आसमान में तेजी से जाते हुए एकदम वापिस भी आया। यह दृश्य बहुत ही रोमांचित करने वाला था। वायुसैनिकों ने आसमान में कलाबाजियां करते हुए सभी को चकित भी किया। रक्षामंत्री सहित अन्य गणमान्य लोगों ने वायुसैनिकों द्वारा दिखाए जा रहे करतब की तालियां बजाकर उनका अभिवादन किया। इसके अलावा सारंग हैलीकॉपटर ने भी अपनी प्रतिभा से सभी को चकित किया। उन्होने वंदे मातरम के माध्यम शैल्यूट करते हुए अन्य करतब पेश किए। सैरेमनी समारोह में सभी ने अपने आप को वहां पाकर काफी गौरवांवित महसूस किया।



Next Story