Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अधिकारियों ने जब नहीं सुनी पुकार तो अपने ही खर्चे पर उठाया पार्क को संवारने का बीड़ा

ठेकेदार द्वारा किए गए कार्य की शिकायत क्षेत्रवासियों ने अनेक बार अधिकारियों के समक्ष लगाई लेकिन उनकी फरियाद को हर किसी ने अनसुना कर दिया जिसके चलते अब पार्क के आस पास रहने वाले लोगों ने पैसे एकत्रित कर अपने खर्चे पर पार्क के सौंदर्यकरण का काम शुरू करवाया है।

अधिकारियों ने जब नहीं सुनी पुकार तो अपने ही खर्चे पर उठाया पार्क को संवारने का बीड़ा
X

भिवानी : पार्क नंबर नौ में अपने खर्चे पर लोगों द्वारा डलवाई गई मिट्टी ।

हरिभूमि न्यूज : भिवानी

नगर परिषद द्वारा सेक्टरों के पार्क के सौंदर्यकरण का ठेका जिन ठेकेदारों का दिया जाता है वो ठेकेदार उस पार्क में कितना कार्य करते हैं तथा किस स्तर की सामग्री का प्रयोग करते हैं इसकी जांच करने के लिए अधिकारी कभी भी मौके का मुआयना करना उचित नहीं समझते। इसी का नतीजा है कि सेक्टर 13 स्थित वीकर सेक्सन के पार्क नंबर नौ में सौंदर्यकरण का ठेका तो दिया गया लेकिन जितने रुपये का टेंडर अलाट किया गया उसका थोड़ा बहुत रुपया ही पार्क के सौंदर्यकरण के नाम पर खर्च किया गया। जिसके चलते नगर परिषद के कागजों में तो पार्क का सौंदर्यकरण हो गया लेकिन हकिकत में पार्क की दशा पहले से भी खराब हो गई।

ठेकेदार द्वारा किए गए कार्य की शिकायत क्षेत्रवासियों ने अनेक बार अधिकारियों के समक्ष लगाई लेकिन उनकी फरियाद को हर किसी ने अनसुना कर दिया जिसके चलते अब पार्क के आस पास रहने वाले लोगों ने पैसे एकत्रित कर अपने खर्चे पर पार्क के सौंदर्यकरण का काम शुरू करवाया है। लोगों का कहना है कि जिस ठेकेदार को सौंदर्यकरण का काम दिया गया था उसने सौंदर्यकरण के नाम पर खानापूर्ति कर दी तथा अपनी जिम्मेवारी से पल्ला झाड़ लिया। इतना ही नहीं लोगों का आरोप है कि ठेकेदार पार्क की लोहे की रेलिंग, गेट व पुरानी ईंटे सब यहां से उठाकर ले गया। थोड़ी बहुत चार दीवारी बनवाकर छोड़ने से इस पार्क की हालात पहले से भी बदतर हो गई। स्थानीय निवासियों के बार-बार कहने पर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। जिस कारण यह पार्क न रहकर पशुओं का बाड़ा और गंदगी का ढेर बन गया था।

न बच्चे खेल पाते हैं न बड़े कर पाते हैं मार्निंग वॉक

पार्क नंबर नौ के पास रहने वाले लोगों ने बताया कि पार्क की हालात इतनी दयनीय हो गई थी कि यहां बीमारी फैलने का डर बना हुआ था। पार्क के अंदर न तो बच्चे खेल पा रहे थे न ही बड़े मार्निंग व इवनिंग वॉक कर पा रहे थे। बार बार चक्कर काटने से उन्हें आर्थिक व मानसिक रुप से परेशान होना पड़ रहा था । अधिकारियों की अनदेखी से परेशान होकर लोगों ने समस्या का समाधान अपने ही स्तर पर करना उचित समझा तथा पैसे एकत्रित कर पार्क की बिगड़ी हालात को सुधारने का जिम्मा उठा लिया।

लोगों ने बताया कि पार्क की हालात खस्ता होने के चलते यहां निवासियों को रहने में भारी परेशानी हो रही थी। क्षेत्र वासियों ने पैसा एकत्रित कर पार्क का सौंदर्य करण करते हुए चार दीवारी का निर्माण व मिट्टी डलवाने का काम शुरू कर दिया है । क्षेत्रवासी अंकित कुमार, सतबीर फौजी, सुरेश कुमार, उमेद सिंह, पवन कुमार, बलवान सिंह, महेन्द्र सिवाच, जयबीर सिंह, आजाद सिंह, जोगेन्द्र कुमार आदि ने मिलकर पार्क के सौंदर्यकरण का काम स्वयं के खर्चे पर करवा रहे हैं।

Next Story