Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खुशखबरी : 122 गांवों के ग्रामीणों को मिलेगी पर्याप्त पेयजलापूर्ति, प्रोजेक्ट के लिए 114 करोड़ रुपये मंजूर

जनस्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग की ओर से 122 गांवों में घर-घर पानी पहुंचाने के लिए एक महत्वकांक्षी योजना तैयार कर उस पर कार्य करना शुरू कर दिया गया है।

खुशखबरी : 122 गांवों के ग्रामीणों को मिलेगी पर्याप्त पेयजलापूर्ति, प्रोजेक्ट के लिए 114 करोड़ रुपये मंजूर
X

 नारनौल : गांव लहरोदा में जनस्वास्थ्य विभाग द्वारा तैयार कराया विशाल वाटर टैंक व पानी को शुद्ध करने के लिए तैयार किया जा रहा प्लांट।  फोटो: हरिभूमि

हरिभूिम न्यूज : नारनौल

नारनौल से नांगल चौधरी क्षेत्र के ग्रामीणों को राहत प्रदान करने वाली खुशखबरी है। जनस्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग की ओर से 122 गांवों में घर-घर पानी पहुंचाने के लिए एक महत्वकांक्षी योजना तैयार कर उस पर कार्य करना शुरू कर दिया गया है। इस मेगा वाटर प्रोजेक्ट के लिए हरियाणा सरकार ने करीब 114 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं और विभाग ने टेंडर अलॉट कर निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है।

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय भू-जल बोर्ड ने नारनौल एवं नांगल चौधरी खंडों को डार्कजोन घोषित किया हुआ है। डार्कजोन घोषित होने से इन दोनों ही खंडों में नए नलकूप तैयार करने पर बैन लगाया हुआ है। इस वजह से इन दोनों ही खंडों में अधिकांशतया नहरी पानी आधारित पेयजल योजनाओं के जरिए पीने के पानी की आपूर्ति की जाती है। अब दिन-ब-दिन आबादी एवं पानी की जरूरत बढ़ने से नहरी पानी की मात्रा बढ़ाने की भी आवश्यकता महसूस की जा रही है। इसी को मद्देनजर रखते हुए विभाग ने वर्ष 2035 को लक्ष्य मानकर योजना तैयार की और अब जनस्वास्थ्य विभाग ने उक्त 122 गांवों में पर्याप्त पेयजल पहुंचाने के लिए कार्ययोजना पर अमल करना शुरू कर दिया है।

बनाए जा रहे दो वाटरटैंक

जनस्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग डिवीजन-2 की ओर से उक्त 122 गांवों में जलापूर्ति करने के लिए लहरोदा में दो बड़े वाटर टैंक तैयार किए जा रहे हैं। इन पर करीब 14 करोड़ रुपये खर्च होंगे और यहीं पर पानी को स्वच्छ बनाने के लिए प्लांट भी तैयार होगा। दो वाटरटैंक 800 गुणा 800 फुट लंबे-चौड़ें एवं 12 फुट गहरे होंगे। जहां जल का भंडारण किया जाएगा।

गांवों में भी बनाए जाएंगे 10 जगह वाटर टैंक

जनस्वास्थ्य विभाग उक्त गांवों में पेयजलापूर्ति सुनिश्चित करने के लिए ग्रामीण क्षेत्र में ढाई-ढाई करोड़ की लागत से 10 जगहों पर वाटर टैंक तैयार कराएगा। इन टैकों के साथ ही बूस्टर स्टेशन तैयार होंगे और इन्हें ग्रामीण पाइप लाइनों से जोड़ा जाएगा। इससे पानी की प्रेशर के साथ पानी सभी घरों तक सुनिश्चित करना है।

गांवों में गली तक डाली जाएगी पाइप लाइन

उक्त गांवों तक नहरी पानी पहुंचाने के लिए विभाग की ओर से गांव-गांव में पानी की लाइनें बिछाई जाएंगी। यह लाइनें गांवों की फिरनियों में यह लाइनें डाली जाएंगी, जिसमें गली में रह रहे लोग अपने घर के लिए नल का कनेक्शन ले सकेंगे।

गांवों में बनेंगे छोटे स्टोरेज टैंक

विभाग की योजना अनुसार पेयजल आपूर्ति की कमी नहीं आने देने के उद्देश्य से गांवो में छोटे-छोटे वाटर टैंक भी तैयार किए जाएंगे। इन टैंकों में जल भंडारण किया जाएगा, जहां से जरूरत अनुसार पानी की सप्लाई की जाएगी। सरकार का गांव में हर घर तक पर्याप्त पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करना है।

इन 122 गांवों को योजना में किया गया है शामिल

क्षेत्र के 122 गांवों में नारनौल एवं नांगल चौधरी खंड के गांव शामिल हैं, जिनमें लहरोदा, सिलारपुर मेहता, निवाजनगर, हाजारी, बास किरारोद उमराबाद, टहला, मुकुंदपुरा, शाहरपुर अव्वल, ताजीपुर, कोरियावास, थाना, हसनपुर, रामबास, कुलताजपुर, बुचकपुर, रसूलपुर, लुत्फपुर, बसीरपुर, अमरपुरा जोरासी, ताजीपुर, कारोली, मारोली, नांगल श्यालू, कारोता, दोंगली, खातौली जाट, खातौली अहीर, बेरूंडला, ख्वाजपुर नांगलिया, धौलेड़ा, बिगोपुर, निजामपुर, तलोट, धानौता, दनचौली, घाटासेर, छिलरो, नारहेड़ी, बामनवास नूं, आजमाबाद मौखूता, नापला, पवेरा, गांवड़ी जाट, सरेली, रोपड़ सराय, नियाजलीपुर, इस्लामपुरा, छापड़ा बीबीपुर, नांगल पीपा, आंतरी, बिहारीपुरी, जैनपुर, मौसमपुर, कमानियां, नांगल दर्गू, बखरीजा, मेघोत हाला, मेघोत बिंजा, बायल, गंगूताना, गोलवा, मूसनौता, पांचनौता, शहबाजपुर, सैद अलीपुर, लुजौता, दोस्तपुर, भेडंटी, दौखेरा, खोड़मा, बापड़ोली, नांगल काठा, चिंडालिया, मोहम्मदपुर हमीदखां, जैलाफ, खटोटी कलां, खटोटी खुर्द, डोहर कलां, डोहर खुर्द, हमीदपुर, गहली, मकसूसपुर, रघुनाथपुरा, जाखनी, भांखरी, दौचाना, बदोपुर, जादूपुर, गोद, बलाहा कलां, बलाहा खुर्द, ढाणी बाठोठा, खानपुर, आकोली, मूलोदी, श्योनाथपुरा, भोजावास, तोताहेड़ी, अकबरपुर सिरोही, भूंगारका, शिमली, नंगली, नेहरू नगर, सिरोही बिहाली, नांगल कालिया, चैक मलिकपुर, कालबा, बामनवास खेता, नायन, आसरावास, मौरूंड, नियामतपुर, गोठड़ी, नांगल नूनिया, उदयपुर कटारिया, दताल, भांखरी, थनवास, नांगल सोडा, अमरपुर, बूढ़वाल व रायमलिकपुर आदि गांव शामिल हैं।

यह कहते हैं अधिकारी

जनस्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग के कार्यकारी अभियंता नितिन मोदी एवं जूनियर इंजीनियर नितिन यादव ने संयुक्त रूप से बताया कि नारनौल एवं नांगल चौधरी खंड के 122 गांवों में पेयजलापूर्ति के लिए विभाग ने योजना तैयार की थी, जिस पर सरकार द्वारा बजट मंजूर करने उपरांत निर्माण कार्य शुरू कर दिया है। इस योजना के पूरा होने पर ग्रामीणों को पर्याप्त मात्रा में पेयजलापूर्ति संभव हो सकेगी।

Next Story