Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मंत्री हुए सख्त : अवैध खनन में लगे वाहन होंगे सीज, मालिकों पर होगा केस

खनन एवं भू-विज्ञान मंत्री मूलचंद शर्मा ने अधिकारियों को कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया में भी तेजी लाने के निर्देश दिए ताकि विभाग की कार्यप्रणाली को सुचारू बनाया जा सके।

मंत्री हुए सख्त : अवैध खनन में लगे वाहन होंगे सीज, मालिकों पर होगा केस
X

अधिकारियों को निर्देश देते मंत्री मूलचंद शर्मा।

हरियाणा के खनन एवं भू-विज्ञान मंत्री मूलचंद शर्मा ने अवैध खनन में लगे वाहनों को सीज करके उनके मालिकों पर एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने अधिकारियों को सीजर के ऑर्डर भी जल्द से जल्द पास करवाने को कहा है। मूलचंद शर्मा ने यह बात खनन एवं भू-विज्ञान तथा पुलिस विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। उन्होंने अधिकारियों को कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया में भी तेजी लाने के निर्देश दिए हैं ताकि विभाग की कार्यप्रणाली को सुचारू बनाया जा सके।

उन्होंने पुलिस विभाग के अधिकारियों को भी निर्देश देते हुए कहा कि इनफोर्समेंट विंग के तहत पोस्ट क्रिएट करके कुछ अधिकारियों तथा कर्मचारियों को डेपुटेशन पर खान एवं भू-विज्ञान विभाग में भेजा जाए ताकि वहां खनन सामग्री की चोरी तथा अवैध खनन को रोका जा सके। उन्होंने कहा कि मिनरल की चोरी तथा अवैध खनन की गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए एक टास्क फोर्स बनाई जाए, नोडल अधिकारी लगाए जाएं तथा उनकी ड्यूटी माइनिंग ऑफिसर के साथ लगाई जाए। बैठक के दौरान मूलचंद शर्मा के संज्ञान में लाया गया कि जो वाहन सीज किए जाते हैं, उन्हें थानों में खड़ा किया जाता है। लेकिन अब थानों में वाहन खड़े करने की जगह नहीं है, जिसके चलते कई बार वाहनों को छोडऩा भी पड़ता है।

इस पर मंत्री ने अधिकारियों को आश्वासन देते हुए कहा कि इसके लिए जल्द ही समुचित जगह की व्यवस्था कर ली जाएगी। उन्होंने कहा कि विभाग में बड़े पैमाने पर सुधार कार्य किए जा रहे हैं, जन्हिें धरातल पर आने में समय लगेगा। लेकिन इतना तय है कि भ्रष्टाचार किसी भी स्तर पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने प्रदेश, खासकर दक्षिण हरियाणा में खनन गतिविधियां शुरू करने पर बल देते हुए कहा कि वहां पर खनन कार्य न होने के चलते पड़ोसी राज्यों को सीधा लाभ हो रहा है। इस दौरान बताया गया कि प्रदेश में खानों का शत-प्रतिशत प्रारंभिक सर्वेक्षण करवाया जा चुका है जबकि ई-नीलामी के मॉड्यूल को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

Next Story