Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अनोखी शादी : दूल्हा-दुल्हन समेत बारातियों ने किया कुछ ऐसा, जो बन गया यादगार

लोग अपने शादी कार्यक्रम को यादगार बनाने के लिए क्या कुछ नहीं करते। पर यह शादी कुछ अलग थी। जिसमें दूल्हा और दुल्हन ने तो अपने अंग और शरीरदान करने का संकल्प लिया ही साथ ही बारात में आए लोगों ने भी अंग और शरीरदान करने के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया।

अनोखी शादी : दूल्हा-दुल्हन समेत बारातियों ने किया कुछ ऐसा, जो बन गया यादगार
X

अपने विवाह में अंगदान के फार्म भरते संदीप व सुलेखा।

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

लोग अपने शादी कार्यक्रम ( wedding program ) को यादगार बनाने के लिए क्या कुछ नहीं करते। पर यह शादी कुछ अलग थी, जिसमें लोगों को समाजसेवा का संदेश दिया गया। इस शादी में दूल्हा और दुल्हन ( Bride And Groom ) ने तो अपने अंग और शरीरदान करने का संकल्प लिया ही साथ ही बारात में आए लोगों ने भी अंगदान ( Organ Donate ) और शरीरदान ( Body Donate ) करने के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया। गांव कानोंदा में हुई शादी में दूल्हे संदीप व दुल्हन सुलेखा ने अंगदान का फार्म भरा। उनके साथ 16 लोगों ने शरीर दान जबकि 25 लोगों ने अंगदान के फार्म भरे। खरहर की समाज कल्याण शिक्षा समिति द्वारा चलाए जा रहे अंगदान जागरूकता कार्यक्रम के तहत यह ऐसी तीसरी अनोखी शादी है, जिसमें अंगदान का आठवां फेरा लिया गया और अंगदान के फार्म भरे गए।

समिति के प्रधान आनंद कुमार ने बताया कि संस्था द्वारा 2009 से अंगदान के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। जगह-जगह कैंप लगाकर समिति द्वारा करीब 6 हजार एक सौ अंगदान के फार्म भरवाए जा चुके हैं। इतना ही नहीं 720 के करीब शरीर दान के फार्म भरे जा चुके हैं। संस्था द्वारा विभिन्न मेडिकल कॉलेजों में 21 लोगों के शरीर दान करवाए जा चुके हैं। सोनीपत में 31 अक्टूबर 2017 को हुई शिवानी की शादी में वर-वधु के साथ बारातियों को अंग दान के फार्म भरते देख गढ़ी सांपला निवासी राजपाल के पुत्र संदीप ने भी प्रेरणा ली। उन्होंने भी शादी के दौरान आठवां फेरा अंगदान व शरीर दान का लिया।

समाजसेवी अजय धनखड़ ने इसे सराहनीय पहल बताया। उनके अनुसार मरणोपरांत जलाने या दफनाने की बजाय अंगों का दान करने से लाखों अक्षम लोग लाभांवित होंगे। समिति के सचिव राहुल गुलिया ने बताया कि संस्था यह कार्य बिना किसी सहायता व अनुदान के अपने दम पर कर रही है।

और पढ़ें
Next Story